अमवा मुर्तुजापुर के पहलवान आलोक ने जिला स्तरीय फ्री स्टाइल कुश्ती में किया प्रतिभाग

Uncategorized

प्रमोद राही

नगराम- लखनऊ।नगराम क्षेत्र के छोटे से गांव अमवा मुर्तजापुर में रहने वाले आलोक पहलवान ने लखनऊ स्थित गोमती नगर विराम खंड में जाकर फ्री स्टाइल कुश्ती में अपना दमखम दिखाया हमेशा मिट्टी वाले दंगल में लड़ने वाले आलोक पहलवान को पहली बार फ्री स्टाइल कुश्ती में लड़ने का अवसर मिला तो उन्होंने भी अपने करतब से अपने गांव वा क्षेत्र का नाम रोशन किया भारत के पूर्व प्रधानमंत्री भारत रत्न स्वर्गीय अटल बिहारी के जन्मदिन पर गोमतीनगर स्थित विराम खंड मनीषा देवी मंदिर के पास अटल क्रीड़ा स्थल में जिला स्तरीय फ्री स्टाइल कुश्ती का आयोजन किया गया

जिसमें पंजाब हरियाणा बनारस लखनऊ जैसे दर्जनों जिले के पहलवानों ने आकर जिला स्तरीय कुश्ती प्रतियोगिता में अपना प्रतिभाग किया जिसमें जिला कुश्ती एसोसिएशन के सचिव राजेश सिंह ने विजई छात्रों को पुरस्कार देकर सम्मानित किया।वही जिला स्तरीय कुश्ती एसोसिएशन के अध्यक्ष बृजभूषण चरण सिंह भारती ने दंगल में आए हुए पहलवानों का तहे दिल से स्वागत किया नगराम क्षेत्र के आमवा मुर्तुजापुर में रहने वाले किसान त्रिभुवन भारतीय के छोटे लड़के आलोक ने जिला स्तरीय कुश्ती में विजई होकर अपने गांव का नाम रोशन किया आलोक पहलवान कुश्ती लड़ने के साथ-साथ पढ़ाई भी करता है

आलोक इटावा में एग्रीकल्चर से स्नातक की पढ़ाई कर रहा है आलोक के पिता त्रिभुवन ने बताया कि आलोक बचपन से ही कुश्ती में शौक रखता था उसे बचपन से ही कुश्ती लड़ने का जुनून था वह क्षेत्र के आसपास लगने वाली दंगल में कुश्ती लड़ने जाया करता था और आज जिला स्तरीय कुश्ती में प्रतिभाग कर मुझे गौरवान्वित कर दिया है आलोक पहलवान की उम्र केवल 20 वर्ष की है और इस उम्र में उन्होंने जिला स्तरीय खेल में प्रतिभाग कर अपने माता पिता का सर गर्व से ऊंचा कर दिया है आलोक पहलवान के कोच मोहित का कहना है कि आलोक बहुत ही मेहनती लड़का है वह पूरी एकाग्रता के साथ कुश्ती लड़ता है और अपने प्रतिद्वंदी को कुछ ही पलों में पराजित करने का अवसर ढूंढ लेता है

आलोक के कोच मोहित का कहना है कि कुश्ती लड़ना कोई आसान चीज नहीं है जितना पैसा एक पहलवान को बनाने में लगता है उतने पैसे में तो दो बच्चे डॉक्टर या मास्टर बन सकते हैं वही आलोक पहलवान का कहना हैं कि उन्होंने अभी तक सैकड़ों दंगलों में कुश्ती लड़ी हैं और ज्यादातर दंगलों में जीत हासिल की है आलोक पहलवान का कहना है कि पहलवानी में उनके माता-पिता और बड़ा भाई उनका पूरा सहयोग करते हैं।आलोक पहलवान का कहना है फ्रीस्टाइल जिला स्तरीय कुश्ती लड़ कर मुझे काफी अच्छा लग रहा है और मैं आने वाले समय में राज्य स्तरीय प्रतियोगिता में कुश्ती लड़ करअपने देश का नाम रोशन करुंगा।

Total Page Visits: 109 - Today Page Visits: 1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *