सफल रहा प्रियंका का रोड शो, पर सोनिया के संसदीय क्षेत्र का नही रहा कोई योगदान*

Raeabreli Uttar Pradesh

*प्रियंका के स्वागत मे भीड़ ले जाने में असफल रहे रायबरेली के कांग्रेसी*

*जीर्ण शीर्ण संगठन नही जगा पाया उत्साह*

रायबरेली। श्रीमती प्रियंका गांधी के आधिकारिक रुप से कांग्रेस की राजनीति में आगमन के बाद प्रथम लखनऊ दौरे में जहाँ पूर्वी व मध्य उत्तरप्रदेश के कांग्रेसजनों में उत्साह समुंदर की लहरों की भांति लखनऊ में ठाठे मार रहा था वही नेहरू गांधी परिवार की कर्मभूमि रायबरेली के स्थानीय कांग्रेस नेतृत्व श्रीमती सोनिया गांधी के सांसद प्रतिनिधि के एल शर्मा की कार्यकर्ताओ को गुलाम समझने की मानसिकता से उत्साह ठंडा ठंडा दिखा। जनपद में कांग्रेस कार्यकर्ता अपनी नेत्री प्रियंका गांधी के भव्य स्वागत को लेकर गम्भीर थे लेकिन स्थानीय नेतृत्व की उदासीनता से कार्यकर्ताओं के चेहरे मुरझा गए , जनपद से स्वागत के लिये तथाकथित नेतृत्व के अलावा पूर्व विधायको विधानसभा चुनाव के कुछ टिकटार्थियों ने अपने परिवारजनों के साथ लखनऊ की तरफ अपनी चमचमाती गाड़ियों से फर्राटा भरा उन्हें देखकर निष्ठावान कांग्रेसियो में उदासीनता छा गयी कि चुनाव में कांग्रेस के ईमानदारी से हाड़तोड़ मेहनत करने वालो के साथ यह बर्ताव लोकसभा चुनाव में कुछ सीमा तक प्रभावित अवश्य कर सकता है। निष्ठावान पुराने कांग्रेसियो के मन मे नेहरू परिवार के प्रति अगाध निष्ठा है लेकिन सांसद प्रतिनिधि व जिला इकाई में बैठे लोगों की तानाशाही कार्यकर्ता विरोधी मानसिकता से उनके विश्वाश को गहरी ठेस वर्ष 2004 से लगातार लग रही है। कांग्रेस में स्थानीय नेतृत्व व सांसद प्रतिनिधि की कोटरी चन्द चमचो को छोड़कर किसी को आगे नही आने देती जिस कारण जीर्ण शीर्ण संगठन अपनी आभा व शक्ति निरन्तर खोता जा रहा है। नेहरू गांधी परिवार की चुनाव में सफलता जनता के अगाध प्रेम के कारण होती है जिसमे संगठन व सांसद प्रतिनिधि की भूमिका लगभग शून्य होती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *