लॉकडाउन ने बढ़ाई किसानों की चिंता नहीं मिल रहे मजदूर

Raebareli Uttar Pradesh

डलमऊ,रायबरेली।कोरोना वायरस कि महामारी को लेकर लॉकडाउन होने पर किसानों को चिंता सता रही है। फसल पक कर तैयार है। और काम करने के लिए मजदूर नहीं मिल रहें हैं। किसानों की सारी मेहनत और लागत इस समय खेतों में खुली पड़ी है, साथ ही खेतों में खड़ी फसल को बेमौसम बारिश और जानवरों से खतरा होने की आशंका है। जिसे अनचाहे प्रकृति के प्रकोप या किसी अनजानी दुर्घटना का सामना करना पड़ सकता है। जिससे उनके पूरी मेहनत का नतीजा शून्य हो जाएगा। इस महामारी के प्रकोप के चलते बहुत सी समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। डलमऊ तहसील क्षेत्र लॉक डाउन के चलते दिहाड़ी मजदूरों के ना मिलने से समस्या और गंभीर परिस्थितियों मे बदल जाती है। कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए देश में 21 दिन के लिए लॉक डाउन लागू किए जाने का यूं तो सभी स्वागत कर रहे हैं, मगर खेतों में खड़ी फसल को लेकर किसान चिंतित हैं। क्योंकि अगर समय से कटाई और भंडारण नहीं हुआ तो उनका जीवन मुश्किल भरा हो जाएगा। किसानों द्वारा सरकार से मांग की जा रही है कि इन हालातों में किसानों के लिए खास रियायत दी जाए।आमतौर पर गेहूं, चना, सरसों सहित अन्य रबी फसलों की कटाई का समय मार्च और अप्रैल में होता है। इस समय समूचे प्रदेश के खेतों में ये फसलें लहलहा रही हैं, कटाई की तैयारी चल रही है, इसी बीच कोरोना वायरस की महामारी ने दुनिया के अन्य देशों के साथ हमारे देश में भी संकट बढ़ा दिया है। इसी के चलते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 21 दिन का लॉक डाउन घोषित किया है, जिससे किसानों का खेतों तक पहुंचना मुश्किल सिद्ध हो रहा है और फसल की कटाई संभव नहीं होगी।किसानों की समस्या के समाधान के लिए तहसीलदार प्रतीत त्रिपाठी ने
बताया कि सामाजिक दूरी का पालन करते हुए खेतों की कटाई का काम किया जा सकता है।

Total Page Visits: 24 - Today Page Visits: 1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *