जरूरतमंदों के लिए वरदान साबित हो रही संविधान सुरक्षा परिषद

Raebareli Uttar Pradesh कोरोना वायरस

घबराएं नही सावधानियां बरतकर कोरोना के डर को मारें : पूजा

अंगद राही

रायबरेली। वैश्विक महामारी का रूप ले चुके कोरोना वायरस को हराने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा घोषित किए गए 21 दिनों के लॉकडाउन से सबसे ज्यादा यदि कोई प्रभावित है तो वो है गरीब एवं मजदूर वर्ग। ऐसे श्रमिक जिनकी हालत रोज कुआं खोदने और रोज पानी पीने जैसी है भूखमरी की कगार पर पहुंच चुके हैं,जिन्हें ठीक तरह से 2 जून की रोटी भी नहीं नसीब हो पा रही है। शासन द्वारा दावे तो बहुत बड़े-बड़े किए जा रहे हैं किंतु हकीकत कुछ और ही है। आलम है यह है कि उचित मूल्य दर की दुकान पर नि:शुल्क राशन केवल उन्हीं को मिल रहा है जो या तो अंतोदय कार्ड धारक है अथवा पंजीकृत श्रमिक एवं मनरेगा कार्ड धारक है। समाज में अधिकांश लोग ऐसे भी हैं जिनके ना तो अभी तक राशन कार्ड बने हैं और न ही उनका आज तक जॉब कार्ड बना है, और ना ही वे पंजीकृत श्रमिक है। ऐसे लोग गांव अथवा शहरों में गारा, ईट,रंगाई पुताई,पल्लेदारी अथवा दिहाड़ी मजदूरी करते हैं। विडम्बना है कि ऐसे लोगों को ना तो सरकार द्वारा चलाई जा रही राहत योजनाओं का लाभ मिल पा रहा है और ना ही ऐसे लोगों पर जिम्मेदार अधिकारी कर्मचारी और गांव के क्षेत्र के जनप्रतिनिधि ध्यान दे रहे हैं। ऐसे में इन दिहाड़ी मजदूरों, गरीब और वंचितों के लिए पुलिस-प्रशासन और समाजसेवी एवं समाजसेवी संस्थाएं आगे बढ़कर राशन पानी,खाना और लंच पैकेट पहुंचाकर इनकी मदद कर रही हैं। ऐसी ही एक समाजसेवी संस्था ने सोमवार को शिवगढ़ क्षेत्र के ग्राम पंचायत गूढ़ा, इच्छा खेड़ा, चंदापुर सहित गांवों में संविधान सुरक्षा परिषद‌ द्वारा गांव के गरीब जरूरतमंद करीब 100 लोगों को मास्क व 300 लोगों को साबुन तथा आयुर्वेदिक कपूर्रादि वटी का वितरण किया गया।
‌ इस मौके पर सोशल पॉलीटिकल लीडर पूजा जैसवार ने उपस्थित लोगों को कोरोना के विषय में जागरूक करते हुए कहा कि कोरोना से डरे नहीं सावधानियां बरतकर डर को मारें। लॉकडाउन का पालन करें अनावश्यक रूप से घरों से बाहर बिल्कुल मत निकले। यदि किसी जरूरी काम से घर से बाहर निकलना पड़ रहा है तो मुंह और नाक को रुमाल,मास्क या अंगोछा से ढककर ही बाहर निकले। अपने हाथों को लगभग आधा घण्टे के अंतराल पर अच्छी तरह साबुन धुलें या सैनिटाइजर का प्रयोग करें। वहीं सभी से सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने की अपील की गई। चंदापुर निवासी
रामहेत मिस्त्री ने अपने उद्गार व्यक्त करते हुए कहा कि संविधान सुरक्षा परिषद जरूरतमंदों के लिए वरदान साबित हो रही।

Total Page Visits: 100 - Today Page Visits: 1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *