इतिहास याद रखेगा इस दिन को जब पूरा संसार डगमगा रहा था, तब हिन्दुस्तान जगमगा रहा था…

Raebareli Uncategorized Uttar Pradesh

सौरभ सिंह (लालगंज)

मैं भी दीप जलाऊँगा
हां मैं भी दीप जलाऊंगा

मानव उपवन से लड़ने को
मायावी पथ ले,बढ़ने को
फैली जो दुर्गन्ध धरा पर
उसकी छाती पर चढ़ने को

अगणित पुष्प खिलाऊँगा
हां मैं भी दीप जलाऊँगा
हां मैं भी दीप जलाऊँगा

लक्ष्य हेतु रथ पर चढ़ने को
विजय हेतु पथ पर बढ़ने को
धुआं पहन कर सुलग रहा जो
उस तम पर भारी पड़ने को

अगणित दीप जलाऊँगा
हां मैं भी दीप जलाऊँगा
हां मैं भी दीप जलाऊँगा

(प्रकाशित संग्रह से)

Total Page Visits: 90 - Today Page Visits: 1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *