कोरोना से बेजुबानों पर संकट खड़ा हुआ तो मदद को बढे हाथ

Raebareli Uttar Pradesh कोरोना वायरस

प्रमोद राही

लखनऊ। कोरोना वायरस से फैले संकट के बाद गरीबो जरूरतमंदों की मदद के लिये तो सैकड़ो हाथ मदद के लिये बढ़ रहे हैं।पर मंदिर, जंगल में घूमने वाले बेजुबानों की किसी ने अब तक सुध नही ली थी।शनिवार को बेजुबानों की भूख मिटाने के लिये युवाओ की टोली ने भँवरेश्वर मंदिर के पास घूमने वाले सैकड़ो की संख्या में बेजुबान बन्दरो को केला बिस्कुट,पूआ खिलाया।लाकडाउन के बाद से सीमा पर सई नदी किनारे बने भँवरेश्वर मंदिर के कपाट बंद कर दिए और यहां लगने वाला साप्ताहिक मेला भी स्थागित हो गया। जिसके चलते यहां आने जाने वाले लोगो का आना भी बन्द हो गया।जिसके चलते यहां मंदिर के आसपास के रहने वाले सैकड़ो बेजुबानों पर संकट खड़ा हो गया।शनिवार को गरीबो को भोजन और राशन वितरण करने वाली टोली ने मंदिर परिसर में पहुँचकर बेजुबानों को केला, पुआ, बिस्कुट खिलाये इस दौरान बड़ी संख्या में बेजुबान बन्दर उमड़ पड़े।इस मौके पर सुजीत पांडेय, आशीष ,द्विवेदी, राघवेंद्र तिवारी,ललित मिश्रा,मुकेश मिश्रा, उमेश गुप्ता मोइन खान मौजूद रहे।वहीं इसके पहले भगवानपुर प्रधान अंकुर ने भी इन बेजुबानों की भूख मिटाई थी।

हजारो की रहती थी भीड़,अब पसरा रहता है सन्नाटा—————

ग्रामीणों बताते है कि भँवरेश्वर मंदिर तीन जिलों की सीमा पर सई नदी के पास बना यहां पर हर सोमवार मेला लगता है।जहां हजारो की संख्या में श्रद्धालुओं की भीड़ रहती है।यहां हर आने वाला कुछ न कुछ यहां रहने वाले बेजुबानों को कुछ न कुछ खिलाता जरूर था।पर इधर लॉकडाउन के बाद जब मंदिर के साथ मेला बन्द हो गया तो इन बेजुबानों पर संकट खड़ा हो गया।शनिवार को जब कुछ लोग इनके लिये खाने पीने का समान लेकर आये तो इनका झुण्ड खाने पीने की समान पर टूट पड़ा।

Total Page Visits: 346 - Today Page Visits: 1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *