जिलाधिकारी शुभ्रा सक्सेना ने पेश की ऐसी मिसाल की हर ओर हो रही सराहना

Raebareli Uttar Pradesh

मेरे लिए सबसे पहले देश और जिले की जनता फिर परिवार : डीएम

धैर्य शुक्ला

रायबरेली। कोरोना के बढ़ते प्रभाव को लेकर जहां समूचा देश चिंतित है। लॉक डाउन के जैसे तैसे ही चोरी-छिपे लोग अपने घरों की ओर भाग रहे हैं। वहीं रायबरेली में जिलाधिकारी के प्रयासों से एक फोन पर लोगों को उनके घरों पर आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति हो रही हैं। गरीब बेसहारा एवं जरूरतमंद जिनके पास कोई काम नहीं है उन्हें लंच पैकेट उपलब्ध कराए जा रहे हैं। रायबरेली के तेज तर्रार जिलाधिकारी शुभ्रा सक्सेना ने अपने कार्यो से जो मिशाल पेश की हैं वो वाकई काबिलेतारीफ हैं, जी हाँ रायबरेली में कोरोना का अब तक एक भी मरीज पोस्टिव नही पाया गया, लेकिन जिलाधिकारी ने जिले के सभी अधिकारी चाहे वो पुलिस विभाग हो या अन्य कोई भी विभाग हो ,उनके अधिकारियों को ये सख्त निर्देश दिए है कि सभी नियमों का पूरा पालन करें व अन्य लोगो से नियमों का पालन करने की अपील करे।विदित हो कि देश में 21 दिन के लॉक डाउन घोषित होने से पहले ही जिलाधिकारी सुभ्रा सक्सेना ने लॉक डाउन की संभावनाओं को लेकर लॉकडाउन की सभी तैयारियां पूरी कर ली थी। जिलाधिकारी ने सभी एमरजेंसी सर्विसेज को एक्टिव कर दिया था। जिसका ये नतीजा निकला कि जिले में हर व्येक्ति को घर बैठे दवाइया ,दूध,सब्ज़ी व अन्य जरूरी सामान एक फोन पर उपलब्ध हो रहा हैं, वहीं जिन व्यक्तियों के पास कोई काम नहीं है गरीब हैं या बेसहारा हैं उन लोगो के लिए जिलाधिकारी ने लंच पैकेट का इंतजाम आज से शुरू कर दिया है। वहीं दूसरी ओर समस्त तहसील के अधिकारियों को निर्देशित किया है कि वे अपने क्षेत्रों के प्रधानों के साथ बैठक कर उन्हें गरीबों की मदद व उनकी सहायता के लिए उचित कदम उठाने के साथ ही लोगों को जागरूक करने के लिए निर्देशित करें। जिलाधिकारी का कहना है कि मेरे लिए मेरा देश व मेरी जिले की जनता पहले है परिवार बाद में हैं। जिलाधिकारी द्वारा आज से गरीबो के लिए शहर में पहले दिन 200 से ऊपर जरूरतमंद लोगों को लंच पैकेट की व्यवस्था शुरु की गयी। वहीं जो अन्य संस्थान हैं जो गरीब लोगों की मदद करना चाहते है उनकी भी सूची तैयार करवाना चालू कर दिया है, जिसकी पूरे जिले में भूरी भूरी प्रसंसा हो रही हैं। जिलाधिकारी ने पूरे जिले के अधिकारियों को 24 घण्टे अलर्ट मोड़ पर कर दिया है। जिले के सारे अधिकारियों के फोन 24 घण्टे खुले रहेंगे ,किसी भी एमरजेंसी की स्थिति में वे तत्काल मामले की जांच करेंगे जिस तरह से जिलाधिकारी ने कोरोना वायरस से बचने के लिए खुद एक एक पल निगरानी कर रही हैं उससे ये साफ जाहिर होता हैं कि जिलाधिकारी देश और जिले की जनता के लिए कितनी चिंतित हैं।

Total Page Visits: 293 - Today Page Visits: 2

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *