नसीराबाद के बम्भनपुर में हुई पति पत्नी मासूम की मौत में आया नया मोड़

Uncategorized

मुस्तकीम अहमद

नसीराबाद रायबरेलीनसीराबाद थाना क्षेत्र में सोमवार देर शाम हुई दम्पति सहित मासूम तीन वर्षीय बेटी की मौत के मामले में आया नया मोड़ शिवकुमार उर्फ़ शीबू की जगह ननिहाल में अपनी माँ के साथ गांव के ही इन्द्रकुमार अग्रहरी उर्फ़ ननचू के रूप में शव की पहचान हुई ।अब पुलिस मृतका के पति शिवकुमार की तलास में जुटी।पी एम् के बाद मृतका मोनी व मासूम बेटी अवनी का शव गांव पहुचते ही गांव में कोहराम मच गया वही मृतका की माँ संपता देवी पिता बद्री प्रसाद का रो रो कर बुरा हाल हो गया मृतका की बहन रानी देवी व रश्मि बहन के शव से लिपट कर फूटफूट कर रोने लगी वही मृतका की माँ रोते रोते बेहोस हो जाती।

बताते चले कि नसीराबाद थाना क्षेत्र के बभनपुर गांव में बीते सोमवार की रात घर के अंदर कमरे में दम्पति सहित तीन वर्षीय बेटी का जले अवस्था में शव बरामद होने से क्षेत्र में सनसनी फैल गयी। सूचना नसीराबाद एस ओ रवीन्द्र कुमार सोनकर आनन फानन में घटना स्थल पर पहुचे और उच्याधिकारियो को अवगत कराया ।तीन लोगो की मौत की खबर से जिले के आलाधिकारियों में हड़कम्प मच गया पुलिस अधीक्षक स्वप्निल ममगई एडशीनल एस पी नित्यानंद राय सहित फोरैंसिक टीम मौके पर पहुचकर जाँच पड़ताल का साक्ष्य जुटाए और आस पास के लोगो से घटना के बाबत पूछताछ की ।मंगलवार दोपहर बाद आई जी एस के भगत भी घटना स्थल पर पहुचकर जाँच पड़ताल कर पुलिस अधीक्षक से पूरे मामले की जानकारी ली साथ ही परिजन व पड़ोसियों से भी पूछताछ कर पुलिस अधीक्षक को निर्देश दिए की जल्द मामले का खुलासा करे।नसीराबाद पुलिस ने शव को पी एम् के लिए भेजा पर शव पूरी तरह से जल चुका था इस पर पी एम् नही हो सका बुधवार को लखनऊ से आई टीम ने पोस्टमार्टम किया तो इस बात का खुलासा हुआ की शव शिवकुमार का नही बल्कि गांव के ही इन्द्रकुमार उर्फ़ ननचू की है।
पुलिस ने इन्द्रकुमार उर्फ़ ननचू का शव इन्द्रकुमार के चाचा शिवपियारे को सौपा।
उधर नसीराबाद एस ओ रवीन्द्र कुमार सोनकर ने बताया मृतका मोनी व बेटी अवनी के आलावा तीसरा शव ननिहाल में रह रहे इन्द्रकुमार अग्रहरी उर्फ़ ननचू के रूप में हुई पहचान हुई है शव को मृतक के चाचा शिवपियारे का सौपा गया है शिवकुमार की तलास की जा रही है जल्द ही खुलासा किया जायेगा।

इनसेट
इन्द्रकुमार अग्रहरी उर्फ़ ननचू मूल रूप से डीह के निवासी थे पिता की मौत के बाद अपनी माँ सुशीला देवी के साथ अपने मामा के यह बभनपुर गांव में रहने लगा और किसी तरह अपनी मानशिक विक्षिप्त माँ और अपना जीवन यापन कर रहा था पर ऊपर वाले की मर्जी के आगे किसकी चलती है और हुए तिहरे हत्या कांड में ननचू को मौत के घाट उतार दिया ।अब बूढी मानशिक विक्षिप्त माँ का सहारा कौन होगा।मृतक इन्द्रकुमार की माँ एक झोपडी के नीचे बैठी उसको क्या पता की मेरे बेटे को क्या हुई वह अब इस दुनिया में है य नही ।

Total Page Visits: 208 - Today Page Visits: 1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *