लखनऊ के अस्पतालों में आयुष्मान कार्ड धारकों के साथ हो रहा सौतेला व्यवहार

Raebareli Uttar Pradesh

पैसे बचाने की जुगत में लगा स्वास्थ्य विभाग पैसे के बल पर मरीजों के भर्ती होने का चल रहा खेल

क्या हो पाएगी निष्पक्ष जांच

प्रमोद राही

लखनऊ। राजधानी लखनऊ केजीएमयू हॉस्पिटल लखनऊ में आयुष्मान कार्ड धारकों के साथ लगातार सौतेला व्यवहार किया जा रहा है सरकार के द्वारा अति महत्वाकांक्षी योजना सिर्फ कागजों पर संचालित हो रही है। इसका जीता जागता सबूत अमेठी सुल्तानपुर से ब्रेन ट्यूमर की मरीज लगातार 6 महीनों से मेडिकल कॉलेज लखनऊ के चक्कर लगा रही हैं जिसकी लगातार हालत बिगड़ती जा रही है जबकि उनका नंबर निकल चुका है और पैसा लेकर के दूसरे मरीजों को भर्ती किया जा रहा है। विश्वसनीय सूत्रों के द्वारा लगातार ऐसी सूचनाएं मिल रही हैं लखनऊ के डेंटल और राजधानी अस्पताल सहित कई अस्पतालों में आयुष्मान स्वास्थ्य योजना के मरीजों को बेवकूफ बनाया जा रहा है । अभी कुछ दिन पूर्व अखबारों की सुर्खियां बना एक कर्मचारी नीरज जो इस खेल में सम्मिलित था निलंबित कर दिया गया है। वही शिकायतकर्ता के ऊपर भी डॉक्टरों ने दबाव डालकर अपने पक्ष में करने की कोशिश की लेकिन वही अखबारों में मेडिकल कॉलेज मे मरीजों की भर्ती के खेल में सम्मिलित होने की प्रकाशित खबर को संज्ञान में लेकर जब जांच की तो जांच सही पाई गई वही मंत्री ने एफिडेविट लगाकर शिकायत करने की बात को कहा है । अब मामला देखना है जांच में क्या होता है ,क्योंकि जांच मेडिकल के ही लोगों द्वारा की जाएगी जिससे जांच में भी खेल करके अपने कर्मचारी को बचाया जा सकता है । इस बात से भी इंकार नहीं किया जा सकता कि इस खेल में जरूर बड़े लोगों का हाथ है वरना यह अदना सा कर्मचारी इतनी हिम्मत कैसे कर सकता है फिलहाल प्रधानमंत्री की जन आरोग्य योजना आयुष्मान सिर्फ और सिर्फ दिखावा बनकर रह गई है।

Total Page Visits: 59 - Today Page Visits: 1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *