भू माफियाओं ने प्रशासन को गुमराह कर राजा की जमीन पर कराया अवैध निर्माण

Raebareli Uttar Pradesh

डलमऊ,रायबरेली। डलमऊ फतेहपुर राष्ट्रीय राजमार्ग पर स्थित गाटा संख्या 1630 भूमि पर भाजपा नेता पूर्व एमएलसी राजा राकेश प्रताप सिंह का नाम अंकित है। उक्त बेशकीमती भूमि पर 1 दर्जन से अधिक भू माफियाओं नें अवैध रूप से कब्जा कर उस पर निर्माण करा लिया। भू माफियाओं नें शासन एवं प्रशासन को गुमराह कर दूसरे की भूमि पर अवैध रूप से निर्माण करा लिया। यहां तक कि अवैध निर्माण को वैध बनाने के लिए उन्होंने अधिकारियों को जमकर मोटी रकम भी दी। जिसके चलते अभिलेखों में मन मुताबिक रिपोर्ट लगवाने में कामयाब भी रहे। लेकिन सत्य परेशान हो सकता है ,पर पराजित कभी नहीं इस बात को पूर्व एमएलसी श्री सिंह ने साबित कर दिखाया। करीब 8 माह पूर्व ही हद बरारी का मुकदमा कर अपने हक की लड़ाई लड़ने लगे। 22 फरवरी को डीएम के निर्देश पर गाटा संख्या 1630 भूमि की पैमाइश कराई गई। जिसमें फतेहपुर रायबरेली राष्ट्रीय राजमार्ग पूरे गुलाब राय मोड सड़क के पास आईटीबीपी गेट के सामने पूर्व एमएलसी की भूमि पर करीब 1 दर्जन से अधिक मकान अवैध मिले। पैमाइश होने के बाद अधिकारियों नें संबंधित रिपोर्ट उच्चाधिकारियों को भेज दी है। अब उच्चाधिकारियों के निर्देश पर 1 दर्जन से अधिक मकानों को ढहाने की कार्यवाही जायेगी। डीएम के आदेश पर हुई पैमाइश के चलते भू माफियाओं की पोल खुल गई है। पूर्व एमएलसी की भूमि पर अवैध रूप से बने मकान ढहाये जाने की बात सुनकर भू माफियाओं में हड़कंप मचा हुआ है। भू माफिया पैमाइश की रिपोर्ट बदलवाने के लिए एड़ी से चोटी का जोर लगा रहें हैं। भू माफिया दूसरे की भूमि पर निर्माण कराने में कामयाब रहें लेकिन इस बात की भनक प्रशासन को होने के बावजूद भी कोई कार्यवाही नहीं की गई। मामला जब शासन स्तर तक पहुंचा तो अधिकारियों के भी होश उड़ गए । सूत्रों की माने तो भूमि स्वामी पूर्व एमएलसी राजा राकेश प्रताप सिंह ने बताया कि उक्त भूमि का मामला हाईकोर्ट में विचाराधीन है, हाई कोर्ट के निर्देश पर ही डीएम द्वारा यह कार्यवाही की गई है।
इस संबंध में एसडीएम सविता यादव ने बताया कि उच्चाधिकारियों के निर्देश पर पैमाइश की गई है जिसकी रिपोर्ट उच्चाधिकारियों को भेज दिया गया है अग्रिम कार्यवाही उनके दिशा निर्देशन पर ही की जाएगी।

Total Page Visits: 95 - Today Page Visits: 1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *