पुलिस की शह पर दबंग भूमि धरी जमीन पर कर रहे अवैध कब्जा

Raebareli Uttar Pradesh
Share On Facebook
Share On Twitter
Share On Youtube
Contact us

रायबरेली। एक तरफ सरकार भू माफियाओं के खिलाफ अभियान चलाकर सरकारी एवं गैर सरकारी जमीनों को अवैध कब्जों से मुक्त कराने की बड़े-बड़े दावे करती है वहीं दूसरी तरफ बछरावां में भूमधरी जमीन गाटा नंबर 1123 पर पुलिस के संरक्षण में रात्रि में लगभग चार दर्जन से अधिक लोगों ने मिलकर जबरिया कब्जा किया में दिनेश कुमार पुत्र बाबा लक्ष्मी नारायण व उनके पुत्र गौरव सहित 4 दर्जन से अधिक अज्ञात लोगों द्वारा मिलकर 22 फरवरी की रात्रि में जबरिया पिलर खड़ा और दीवार बनाकर करके लगभग 8 बिस्वा जमीन पर कब्जा किया गया। जबकि पूर्व में इनके द्वारा कई बार जबरिया कब्जा करने पर थाना बछरावां में लिखित शिकायत भी की गई थी। उसके बाद धारा 24 के अंतर्गत हदबरारी का वाद भी लंबित है और इनको थाने और उप जिला अधिकारी के द्वारा आदेश भी दिया गया था कि किसी प्रकार का कोई अवैध निर्माण नहीं किया जाएगा। जब तक हदबरारी करके चिन्हित नहीं कर ली जाएगी। लेकिन बछरावां हल्का एस आई नदीम अहमद और कस्बे के सिपाहियों से मिलीभगत करके रात्रि में निर्माण करवा दिया गया। जब हम प्रार्थी गणों द्वारा 112 नंबर पर शिकायत की गई तो मौके पर पहुंची पुलिस ने काम रुकवाया। उसके उपरांत थाने में शिकायत की गई और शिकायत के बावजूद भी पुलिस के संरक्षण में दोबारा निर्माण जारी रहा और जब हम प्रार्थी गण जबरिया कब्जे की शिकायत को लेकर थाने गए तो एसआई नदीम अहमद और हेड मुहर्रिर (दीवान) सुशील यादव ने पत्रकार से कहा ” ज्यादा नेता ना बनो अपना जूता उतारो और अंदर जाकर बैठो बहुत पत्रकार देखे हैं मैंने तुम जैसे” जहां एक तरफ पुलिस विभाग के मुखिया पत्रकारों के सम्मान के लिए और उनके खबरों के संकलन के लिए बड़ी-बड़ी दुहाईयां देकर आदेश जारी किया करते वहीं दूसरी ओर वर्षों से जमे थाने में सिपाहियों तक की इतनी हिम्मत हो गई पत्रकारों से अभद्रता करने की जुर्रत करने लगे। वही अभद्रता करते हुए हम लोगों को थाने में जहां अपराधियों को बिठाया जाता है। वहां बिठाकर खुलेआम खड़े होकर पुलिस निर्माण करवा रही थी। प्रतिष्ठित समाचार पत्र के पत्रकार चंद्र किशोर वर्मा और गाटा नंबर के हिस्सेदार विपिन सिंह से बदसलूकी किया और कहां की ज्यादा नेतागिरी करोगे किसी मुकदमे में फसाकर जेल भी भिजवा देंगे। तुम्हारी जमीन हो जहां हो वहां जाके लो इस तरह हदबरारी के उपरांत कई बार रुकवाने के बावजूद 8 विश्वा से अधिक जमीन पर जबरिया कब्जा पुलिस के संरक्षण में कराया गया। हम को मानसिक उत्पीड़न करके हल्का सिपाही द्वारा धमकाया भी गया कि कहीं शिकायत करोगे तो तुम्हें फर्जी मुकदमों में फंसा भी दिया जाएगा। इस तरीके से राजस्व अभिलेखों में वेद नाम दर्ज होने के बावजूद भी शिकायत करने पर सही व्यक्ति को अपराधी बना रही है पुलिस जब लोकतंत्र का चौथा स्तंभ भी सुरक्षित नहीं है आम आदमी की सुरक्षा की कैसे गारंटी ली जा सकती है इस संबंध में जब क्षेत्राधिकारी महाराजगंज से बात की गई तो उन्होंने बताया कि मैं पुलिस के इस कृत्य के लिए माफी मांगता हूं।

Total Page Visits: 36 - Today Page Visits: 1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *