हकीकत मंदो ने शानो शौकत से किया फातिहा दुरुद का आयोजन

Raebareli Uttar Pradesh

डलमऊ,रायबरेली।डलमऊ एक ऐतिहासिक नगरी के साथ-साथ सूफी संतों की नगरी भी है। किसी समय ये जगह सूफी तालीम का मरकज़ भी था इन्ही सूफियों में डलमऊ के पावर हाउस में मौजूद दरगाह हज़रत सय्यद बाबा की दरगाह है।आप 15वीं सदी के सूफी संत है आपने डलमऊ में दीनी तालीम के साथ-साथ शर्की हुकूमत के दरबार मे भी खिदमत अंजाम दी आपने उस जमाने में डलमऊ के हर मज़हब के लोगों को बराबर से अपने गले से लगाया और लोगों की परेशानियां दूर की थी लोग दूर दूर से आपके पास फ़ैज़याब होने आते थे उस वक़्त जहां आज पावर हाउस है उस इलाके को चिरयन टोला कहा जाता था। आपका घर वही था और आज आस्ताना भी वही है इतना वक़्त गुज़रने के बाद भी आपके फ़ैज़ की गंगा आपके आस्ताने से जारी है और बड़ी तादात में हिंदू मुसलमान आपके चौखट पे हाज़री देने आते हैं।

बृहस्पतिवार को डलमऊ कस्बे के चौहट्टा मोहल्ले में स्थित बाबा की दरगाह पर हर साल की तरह इस साल भी बड़े अकीदत के साथ फातिहा दुरुद का आयोजन किया गया। फातिहा के दौरान मुतवल्ली वली खान ने बताया कि बाबा की दरगाह पर आने वाले हर जायरीन की मुराद पूरी होती है। मुतवल्ली ने यह भी कहा कि सबसे बड़ी बात तो यह है कि अगर कोई व्यक्ति परेशान है और किसी काम को लेकर अपसेट रहता है तो वह व्यक्ति अगर लगातार सात बृहस्पतिवार को दरगाह की जियारत करता है तो उसकी मुराद सौ प्रतिशत पूरी होती है। इस मौके पर सभासद परवेज खान,फिरोज आलम, इलतिफाज हुसैन, सोहराब अली, रामू खान, रईस सलमानी, अब्दुल्लाह कुरेशी, मोहम्मद गयास, मोहम्मद झूरी, अंसार हुसैन, मौलाना शकील, हाफिज दाऊद व निसार अली सहित आदि लोग मौजूद रहे।

Total Page Visits: 151 - Today Page Visits: 2

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *