छतोह में संचालित हैं दर्जनों मान्यता विहीन विद्यालय

Raebareli Uttar Pradesh

बीईओ की मिलीभगत से फल फूल रहा शिक्षा का अवैध व्यापार

कोंचिंग की आड़ में चल रहे अमान्य विद्यालयों पर बीईओ अंजान

मुस्तकीम अहमद

नसीराबाद,रायबरेली। छतोह क्षेत्र अंतर्गत आने वाले क्षेत्रों में खण्ड शिक्षा अधिकारी की मिलीभगत से फल फूल रहा है अवैध शिक्षा का व्यापार।पुरानी कहावत है कि गुरू के मार्गदर्शन से बच्चों का भविष्य उज्जवल होता है। लेकिन जब गुरू ही शिक्षा की आड़ में व्यापार करने लगे। तो बच्चों के भविष्य का क्या होगा ? कुछ ऐसा ही नजारा है विकास खण्ड छतोह का जहां इस क्षेत्र में दर्जनों बगैर मान्यता के स्कूल संचालित है। या यूं कहा जाये कि कुछ विद्यालय प्रबंधक ऐसे भी हैं। जो कोचिंग सेंटर का बहाना बनाकर व प्रशासन को खुलेआम गुमराह करके शिक्षा की आड़ में व्यापार कर रहें है।जिससे बच्चों के उज्जवल भविष्य के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है। जहां ये मान्यता विहीन विद्यालय संचालक चंद रुपयों की खातिर बच्चों के भविष्य पर कालिख पोतने में आमदा है।जानकारी के लिये बतातें चलें कि ब्लॉक क्षेत्र अंतर्गत जानकी देवी पब्लिक स्कूल गढ़ा की मान्यता पांचवी तक है। जो हाईस्कूल तक संचालित हो रहा है। अनुभव शिक्षा निकेतन छतोह की मान्यता पांचवी तक है और आठवीं तक संचालित है। आदर्श पब्लिक स्कूल बरखुरदरपुर कि मान्यता आठवीं तक और संचालित हो रहा है इंटर तक। वहीं बाबा गोसाईंदास गढ़ा कोचिंग की आड़ में पांचवी तक चलता पाया गया। क्षेत्र में ऐसे कई विद्यालय हैं। जिनकी मान्यता कक्षा 5 या कक्षा 8 है। परंतु इनमें हाई स्कूल व इंटर की कक्षाऐं संचालित हो रहीं है।वहीं जब कुछ विद्यालय जाकर जानकारी की गयी। वहीं विद्यालय के टीचरों का कहना है कि विद्यालय आठवीं तक चलता हुए स्कूल में शिक्षा प्राप्त कर रहे। बच्चों से जानकारी करने पर उन्होने बताया कि विद्यालय इंटर तक संचालित हो रहें है। वहीं विद्यालय में स्वच्छता के नाम पर खिलवाड़ होता पाया गया। जहां ना तो सही मायने में शुद्ध पानी की व्यवस्था है।और ना ही  शौचालय की। वहीं मान्यता विहीन विद्यालयों पर शासन प्रशासन के सख्त आदेश पर भी ।इन अवैध व मान्यता विहीन विद्यालयों के प्रबंधको को किसी प्रकार का भय नही है।जिससे ये शिक्षा माफिया खुलेआम शिक्षा का अवैध कारोबार कर प्रशासनिक आदेश पर पलीता लगाने से बाज नही आ रहें है।
चारमाह पूर्व में नोटिस के बावजूद खुलेआम चल रहे पांच अमान्य विद्यालय।
जिम्मेदारों की जांच में हफ्ते भर पूर्व संचालित हो रहे पांच  अमान्य विद्यालय नोटिस के बावजूद भी खुलेआम संचालित होते पाये गये।जिसमें चित्रांश पब्लिक स्कूल नसीराबाद,एसडी एमर्जिंग स्कूल कपूरपुर,बाबा गोसाईंदास पब्लिक स्कूल गढ़ा व इंद्रपाल पब्लिक स्कूल कोबी एम एस पब्लिक स्कूल गाजीपुर तेलियानी।जो शासन प्रशासन के आदेश को दरकिनार कर खुले आम अवैध शिक्षा का व्यापार कर बच्चों के भविष्य के साथ खिलवाड़ कर रहें है।वहीं खंड शिक्षा अधिकारी द्वारा कार्यवाही ना करना अपने आपमें कई तरह के सवाल खड़ा कर रहा है।
बच्चों से जानकारी करने पर उन्होने बताया कि विद्यालय इंटर तक संचालित हो रहें है।वहीं विद्यालय में स्वच्छता के नाम पर खिलवाड़ होता पाया गया। जहां ना तो सही मायने में शुद्ध पानी की व्यवस्था है।और ना ही  शौचालय की। वहीं मान्यता विहीन विद्यालयों पर शासन प्रशासन के सख्त आदेश पर भी ।इन अवैध व मान्यता विहीन विद्यालयों के प्रबंधको को किसी प्रकार का भय नही है।जिससे ये शिक्षा माफिया खुलेआम शिक्षा का अवैध कारोबार कर प्रशासनिक आदेश पर पलीता लगाने से बाज नही आ रहें है। चारमाह पूर्व में नोटिस के बावजूद खुलेआम चल रहे पांच अमान्य विद्यालय।
जिम्मेदारों की जांच में चार माह  पूर्व संचालित हो रहे पांच  अमान्य विद्यालय नोटिस के बावजूद भी खुलेआम संचालित होते पाये गये।जिसमें चित्रांश पब्लिक स्कूल नसीराबाद,एसडी एमर्जिंग स्कूल कपूरपुर,बाबा गोसाईंदास पब्लिक स्कूल गढ़ा व इंद्रपाल पब्लिक स्कूल कोबी एम एस पब्लिक स्कूल गाजीपुर तेलियानी।जो शासन प्रशासन के आदेश को दरकिनार कर खुले आम अवैध शिक्षा का व्यापार कर बच्चों के भविष्य के साथ खिलवाड़ कर रहें है।वहीं खंड शिक्षा अधिकारी द्वारा कार्यवाही ना करना अपने आपमें कई तरह के सवाल खड़ा कर रहा है।

Total Page Visits: 242 - Today Page Visits: 2

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *