आखिर क्यों नहीं रुक रहा, प्रतिबंधित पॉलीथिन का प्रयोग

Raebareli Uttar Pradesh

दीपचन्द मिश्रा

बछरावां,रायबरेली। एक तरफ सरकार पॉलीथिन को प्रतिबंधित करने कि लगातार पुरजोर कोशिश कर रही है। तो वहीं दूसरी ओर पॉलीथिन का प्रयोग रुकने का नाम नहीं ले रहा है। इससे लगातार बेजुबान जानवर मौत का शिकार हो रहे हैं। पॉलिथीन की रोकथाम के लिए अधिशासी अधिकारी ने पुलिस के सहयोग से कई बार सर्च अभियान बछरावां नगर की दुकानों व पटरी दुकानदारों पर चलाया है। कई बार धर पकड़ भी की गई। पॉलिथीन मिलने पर जुर्माना भी लगाया गया। लेकिन नगर में पॉलिथीन का प्रयोग करने वालो पर नियंत्रण नहीं लग पा रहा है। प्रतिबंध का इन पर कोई असर नहीं है। चोरी-छिपे अपनी दुकान में पॉलिथीन रखकर उसी में सामान देना अपनी शान समझते हैं। वह धड़ल्ले से पॉलिथीन का प्रयोग जारी किए हुए हैं। उसी के नतीजे से बेजुबान जानवर उसको खाकर मौत का शिकार हो रहे हैं। एक तो नगर में आवारा जानवरों की बाढ़ सी आ गई है। एक तरफ किसान रखवाली करके अपने खेतों को बचा रहा है वहां से इनको भगाने पर कूड़े में पड़ी पॉलिथीन को अपना निवाला बनाकर यह मजबूरन अपना पेट भर रहे हैं। जिसकी कीमत उनको अपनी जान देकर चुकानी पड़ रही है। कब इन पर पूर्ण नियंत्रण लग सकेगा। यह एक यक्ष प्रश्न बना हुआ है लोगों की चर्चा के अनुसार यदि पॉलिथीन की बिक्री या इनका उत्पादन करने वाली फैक्ट्रियों पर केंद्र सरकार व राज्य सरकारों द्वारा रोक लगाई जाए तो शायद पॉलिथीन में सामान देने वाले दुकानदारों को पॉलीथिन ही ना प्राप्त हो। तब उस पर नियंत्रण पाया जा सकता है नहीं तो इसी तरह जुर्माना लगाया जाएगा इसी तरह वह पॉलिथीन का प्रयोग करते रहेंगे और परिणाम के तहत केवल बेजुबान जानवर मौत का शिकार होते रहेंगे। कूड़े के ढेरों में अधिकाधिक मात्रा में पॉलिथीन देखकर अंदाजा लगाया जा सकता है कि बछरावां क्षेत्र में इनका प्रयोग धड़ल्ले से जारी है।

Total Page Visits: 111 - Today Page Visits: 1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *