आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन करने वालों पर होगी सख्त कार्यवाही : एसडीएम

Raebareli Uttar Pradesh

● आदर्श आचार संहिता का अनुपालन कराने को लेकर एसडीएम ने की प्रत्याशियों के साथ बैठक

● प्रत्याशी और मतदाता दोनों को करना है आदर्श आचार संहिता का अनुपालन

रायबरेली। त्रिस्तरीय पंचायत सामान्य निर्वाचन प्रक्रिया को सकुशल सम्पन्न कराने हेतु राज्य निर्वाचन आयोग द्वारा निर्गत आदर्श आचार संहिता का सभी से अक्षरस: अनुपालन कराने को लेकर महराजगंज एसडीएम सविता यादव, महराजगंज क्षेत्राधिकारी रामकिशोर सिंह,शिवगढ़ थानाध्यक्ष वीरेंद्र कुमार यादव ने शिवगढ़ क्षेत्र के पूर्व माध्यमिक विद्यालय ओसाह व बीआरसी सभागार शिवगढ़ में ग्राम पंचायत सदस्य पद के उम्मीदवारों, क्षेत्र पंचायत सदस्य पद के उम्मीदवारों, ग्राम प्रधान पद के उम्मीदवारों व क्षेत्र के समस्त जिला पंचायत सदस्य पद के उम्मीदवारों के साथ बैठक कर आदर्श आचार संहिता का अनुपालन करने के लिए सभी प्रत्याशियों को सख्त निर्देश दिए। ताकि शांतिपूर्वक, स्वतंत्र एवं निष्पक्ष व सुव्यवस्थित ढंग से मतदान सम्पन्न कराया जा सके। बैठक में उपस्थित सभी प्रत्याशियों को निर्देशित करते हुए एसडीएम सविता यादव ने कहा कि आदर्श आचार संहिता का पालन सभी के लिए अनिवार्य है किसी भी दशा में इसका उल्लंघन नहीं होना चाहिए अन्यथा सुसंगत धाराओं में कठोर से कठोर कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि कोई भी प्रत्याशी बगैर अनुमति के न ही किसी प्रचार वाहन का प्रयोग करेगा और न ही बगैर अनुमति के लाउडस्पीकर का प्रयोग करेगा। उन्होंने कहा कि ऐसा करते पकड़े जाने पर कठोरतम कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि पोस्टर, स्पीकर,हैंडबिल,बिल्ला आदि प्रचार सामग्री का प्रयोग निर्धारित धनराशि के अनुरूप ही प्रयोग करना है। किसी भी हाल में निर्धारित धनराशि से अधिक व्यय नही करना है। क्षेत्राधिकारी रामकिशोर सिंह ने कहा कि बगैर अनुमति के किसी भी प्रकार की सार्वजनिक सभा अथवा रैली का आयोजन नही करना है। सभी प्रत्याशी एवं समर्थक कोविड-19 को दृष्टिगत रखते हुए मास्क लगाकर निकले कोरोना महामारी से खुद बच्चे और दूसरों को बचाएं, जनसम्पर्क के दौरान 2 गज की दूरी बनाकर रखें। थानाध्यक्ष धीरेंद्र कुमार यादव ने कहाकि कोई भी प्रत्याशी किसी भी व्यक्ति को वोट डालने के लिए प्रलोभन नहीं देगा। और ना ही ऐसा आचरण करेगा जिससे मतदाता प्रभावित हो। इसके साथ ही कोई भी प्रत्याशी किसी भी मतदाता को न ही डरायेगा और न ही धमकाया। ऐसा करते पाए जाने पर कठोर से कठोर दंडात्मक कार्यवाही की जाएगी। इसी के साथ मीडिया के माध्यम से थानाध्यक्ष धीरेंद्र कुमार यादव ने क्षेत्र के सभी मतदाताओं से अपील करते हुए कहा कि किसी के बहकावे अथवा लालच में बिल्कुल न आए सोच समझकर अपने बहुमूल्य मताधिकार का प्रयोग करें। इस मौके पर रामकृपाल सिंह,एसआई अनिल शर्मा व प्रत्याशी गण मौजूद रहे।दरअसल, देश में स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव कराने के लिए चुनाव आयोग के बनाए गए नियमों को ही आदर्श आचार संहिता कहते हैं। आचार संहिता लागू होते ही शासन और प्रशासन में कई अहम बदलाव हो जाते हैं। राज्यों और केंद्र सरकार के कर्मचारी चुनावी प्रक्रिया पूरी होने तक सरकार के नही, चुनाव आयोग के कर्मचारी की तरह काम करते हैं। आचार संहिता लागू होने के बाद सार्वजनिक धन का इस्तेमाल किसी ऐसे आयोजन में नहीं किया जा सकता जिससे किसी विशेष दल को फायदा पहुंचता हों। आचार संहिता लागू होने के बाद सभी तरह की सरकारी घोषणाएं, लोकार्पण, शिलान्यास या भूमिपूजन के कार्यक्रम नहीं किए जा सकते हैं।

ये भी जानें …..

आखिर क्या है आचार संहिता और इसके नियम, यहां मिलेगी पूरी जानकारी

इसके साथ ही सरकारी गाड़ी, सरकारी विमान या सरकारी बंगला का इस्तेमाल चुनाव प्रचार के लिए नहीं किया जा सकता है। किसी भी पार्टी, प्रत्याशी या समर्थकों को रैली या जुलूस निकालने या चुनावी सभा करने की पूर्व अनुमति अपने पुलिस थाना से लेना अनिवार्य होता है। कोई भी राजनीतिक दल जाति या धर्म के आधार पर मतदाताओं से वोट नहीं मांग सकता है। राजनीतिक कार्यक्रमों पर नजर रखने के लिए चुनाव आयोग पर्यवेक्षक भी नियुक्त करता है।

● आचार संहिता उल्लंघन करने पर हो सकती है ये कार्रवाई

यदि कोई प्रत्याशी या राजनीतिक दल आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन करता है तो चुनाव आयोग नियमानुसार कार्रवाई कर सकता है। उम्मीदवार को चुनाव लड़ने से रोका जा सकता है। जरूरी होने पर आपराधिक मुकदमा भी दर्ज कराया जा सकता है। आचार संहिता के उल्लंघन में जेल जाने तक के प्रावधान भी हैं। इसके साथ ही भारी जुर्माना भी लगाया जा सकता है।

Total Page Visits: 13 - Today Page Visits: 1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *