कुपोषण से बचने के लिए जरूरी आहार लेना आवश्यक है रैली निकालकर छात्राओं ने जागरूकता फैलाई

National Raebareli Uttar Pradesh जागरूकता दुखद

पंकज गुप्ता
इंदिरा गांधी राजकीय महिला महाविद्यालय की राष्ट्रीय सेवा योजना इकाई के द्वारा पोषणपखवाड़े के अंतर्गत पोषण एवं आहार जागरुकता विषय पर एक दिवसीय शिविर काआयोजन किया गया जिसके अंतर्गत स्वयंसेवियों ने कोविड-19 के नियमों का अनुपालन करते हुए रैली के माध्यम सेलोगों को जागरूक करने का प्रयास किया ।इसके पश्चात महाविद्यालय में आहार जागरुकता विषय पर पोस्टर एवंस्लोगन प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। जिसमें स्लोगन प्रतियोगिता में असरीन ने प्रथम स्थान, दीपा ने द्वितीयस्थान और कोमल गुमा एवं ज्योति ने तृतीय स्थान प्राप्त किया। पोस्टर प्रतियोगिता में यशी गुप्ता प्रथम स्थान , आकांक्षादीक्षित ने द्वितीय स्थान और अंजलि मौर्य ने तृतीय स्थान प्राप्त किया।इसके पश्चात संबंधित विषय पर संगोष्ठी का आयोजन किया गया जिसमें मुख्य वक्ता डॉ शालिनी कनौजियाअसिस्टेंट प्रोफेसर गृह विज्ञान ने स्वयंसेवियों को पोषण एवं आहार के विषय में पीपीटी के माध्यम से विस्तृत जानकारीप्रदान की। उन्होंने बताया सभी पोषक तत्व विटामिन, प्रोटीन कार्बोहाइड्रेट का संतुलित होना हमारे शरीर के लिए अतिआवश्यक है। पानी भी एक पोषक तत्व के रूप में अनिवार्य है। उन्होंने बताया की दिन की शुरुआत पानी से करें।अपनीखाने का एक समय तय करें। खाने में फल और सब्जियों का अधिक से अधिक मात्रा में प्रयोग करें ।योग, आसन आदि कीआदत डालें। जंक फूड से जितना हो सके बचे और सबसे अंत में स्वयं को समय और सम्मान दें ।

विशिष्ट वक्ता के रूप मेंडॉफ्टर पुप्पेंद्र सिंह ने हमें बताया कि हमें सभी पोषक तत्व को ध्यान में हुए कैसे पोषक को हम बढ़ा सकते हैं इसकेलिए नए तरीके खोजने चाहिए। इसके साथ ही हमें खाने को रचनात्मक भी बनाना चाहिए और पानी का अधिक सेअधिक प्रयोग करते हुए, खेलों को भी अपने जीवन में स्थान देना चाहिए । छात्रा रचना सोनकर ने हमें बताया कि हमसंतुलित आहार लें और विटामिंस की कमी से होने वाले रोगों के विषय में भी चर्चा की। स्वयंसेवी ज्योति ने आहार क्याहोता है इसकी चर्चा की और संतुलित आहार हमें किस प्रकार से लेना चाहिए इसके विषय में भी बताया।कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रही प्राचार्य डॉ सुषमा देवी ने अपने संबोधन में स्वयंसेवियों को बताया कि उनका स्वास्थ्यउनके लिए अति आवश्यक है और उन्हें संतुलित आहार ही ग्रहण करना चाहिए और अपने सोने और जागने का समय तयकरना चाहिए। क्योंकि स्वस्थ शरीर में ही स्वस्थ मन रहता है। कार्यक्रम का संचालन कार्यक्रम अधिकारी राष्ट्रीय सेवायोजना शिखा मौर्या के द्वारा किया गया। इस अवसर पर महाविद्यालय परिवार के डॉ रिचा सिंह, डॉ गोमियानायाब,सविता सिंह, रामकरण आदि मौजूद रहे।

Total Page Visits: 104 - Today Page Visits: 1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *