ग्रामीणों के श्रमदान से गांव की बदली तस्वीर

Uttar Pradesh बाराबंकी

बाराबंकी : विकास खंड हरख के अंतर्गत ग्राम पंचायत सेठमऊ में सफाई कर्मचारी की नियुक्ति तो की गई। लेकिन सफाई कर्मी के मनमाने रवैए से गांव में लगे भीषण गंदगी व बजबजाती नालियां बीमारियों को खुलेआम दावत दे रही थी। जिसके चपेट में कई बच्चे व बुजुर्ग बीमार पड़ने लगे। जिसको देखते हुए ग्रामीणों ने स्वयं गंदगी व नालियों को साफ करने प्रण लिया। इस प्रण को लेने वाले सूरज, कमलेश के आगे आने पर गांव के अन्य निवासी जैसे आशीष कुमार, अशोक, कृष्णपाल, रोहित ,मातिम, इसरार , आदि लोगों ने श्रमदान देकर गांव की काया ही पलट दिया। ग्रामीणों ने सफाई कर्मचारी पर आरोप लगाते हुए बताया कि कई महीने बीत जाते हैं पर सफाई कर्मचारी नहीं आता है। गांव की सभी नालियां पूरी तरह से बजबजा रही और दुर्गंध आ रही है। जिससे संक्रमण का खतरा बना हुआ है ग्रामीण बताते हैं कि अपने ही हाथों से नाली साफ करनी पड़ती हैं। जिसको लेकर ग्रामीणों में काफी आक्रोश भी व्याप्त है गांव में डेंगू व अन्य खतरनाक बीमारियों के संक्रमण फैलने के खतरे से भयभीत है वही ग्रामीणों ने जिम्मेदार अधिकारियों पर आरोप लगाते हुए बताया कि अधिकारियों के रहमोंकरम से सफाई कर्मी बाबू बन कर घूमता रहता है। जिसकी शिकायत के बाद भी जिम्मेदार नहीं जागे। जिससे अंतिम निर्णय श्रमदान का लेते हुए ग्रामीणों ने मिलकर गांव की काया पलट दिया।

Total Page Visits: 24 - Today Page Visits: 1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *