कर्तव्य

Raebareli Uttar Pradesh साहित्य जगत

मोह मेंं मत बांधों मुझको,
रिश्तो की मत दो दुहाई ।
शीघ्र मुझको जाना है,
याद कर रही भारती माई ।।

सिसक रही है भारत माता,
रो रही लाश की ढेरो पर ।
त्रास उनका हरना है ,
चाहे चलना हो अंगारे पर ।।

नित्य ही कई मांओ का,
बेटा शहीद हो जाता है ।
नित्य ही नई वधुओ का,
सुहाग उजड़ जाता है ।।

वीर भगत, तात्या जैसे,
इन वीरो की कुर्बानी ।
देश को जीवन समर्पित कर,
अपनी जान गवां दी ।।

सौभाग्य मेरा होगा जो मै,
देश पर शहीद हो जाऊं ।
स्वाभिमान से जिऊं देश के लिए,
स्वाभिमान से ही मै मर जाऊं ।।


Total Page Visits: 196 - Today Page Visits: 2

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *