रायबरेली- किसान सम्मान निधि किसानों से हो रही अवैध पैसो की वसूली

Raebareli


किसान सम्मान निधि योजना से वांछित रहे किसानों के फार्म फीडिंग के नाम पर हो रही पैसो की वसूली

धैर्य शुक्ल

रायबरेली। प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना को लागू हुये लगभग एक वर्ष बीत गये है लेकिन इसके बाबजूद भी पूरे जिले के सैकड़ो किसानों को पहली किस्त का इंतजार है। इस योजना के तहत सभी किसानों से ऑनलाइन या ऑफ़ लाइन आवेदन मांगे थे। इस योजना के तहत देश के सभी किसान परिवारों को जो इनकम टैक्स नहीं भरता हो, सरकारी नौकरी चतुर्थ श्रेणी को छोड़कर, पेंशन धारक , विधायक, सांसद इत्यादी नहीं हो वह लाभ प्राप्त कर सकता है। योजना के तहत किसान परिवार को प्रति वर्ष 6,000 रुपये 3 किश्तों में दिए जाने का प्रावधान है लेकिन महराजगंज,लालगंज तहसील छेत्र में सैकडो किसान है़ जिनकों अभी तक एक भी किश्त नहीं मिली है। उनको यह भी नहीं मालूम है कि उनकी पहली किश्त क्यों नहीं आई है। गांवों में प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना का किसानों को पूरा लाभ नहीं मिल पा रहा है। क्षेत्र में आज भी सैकड़ों किसान योजना से वंचित हैं। किसान कृषि विभाग और प्रशासन के यहां चक्कर काट रहे हैं। किसान जमीनों के कागजात संबंधित लेखपालों तक दिखा चुके हैं लेकिन लेखपालो का रवैया तानासाही का है उसके बाद भी उनके नाम वेबसाइट पर रजिस्टर्ड नहीं हो सके हैं। जल्दबाजी के चक्कर में प्रशासन द्वारा किसानों के आवेदनों में भारी भरकम गलतियां की गई हैं तो वहीं कूछ के फार्म ही गायब है़ जिसके कारण किसानों के खाते में सम्मान निधि योजना की पहली किस्त भी नहीं पहुंची। किसान सम्मान निधि योजना से वांछित रह गये किसान तहसील और जिले की कृषि रक्षा इकाई के चक्कर काटने को मजबूर है़ इन विभागों में फीडिंग करने के लिए सुविधा शुल्क भी शुरू हो गई है़ किसी से 100तो किसी से 500 रुपए वसूलने का सिलसिला शुरू हो गया है़ जो तुरंत पैसा देता है़ उसको तुरंत फीड कर रजिस्ट्रेशन नम्बर दे दिया जाता है़ और जो नही देता है़ उसका फार्म कचरे के डब्बे में डाल दिया जाता है़। जिसको लेकर छेत्र के मुकेश कुमार, राम हरी, वीरेंद्र अशोक कुमार, शंकर सहित दर्जनों किसानों में आक्रोश देखने को मिल रहा है़ और किसानों का कहना है़ इसकी शिकायत जल्द ही जिलाधिकारी से की जाएगी।

ब्यूरो श्री समाचार

Total Page Visits: 5 - Today Page Visits: 1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *