ब्याज के झांसे में आकर फंसे निवेशक, ठगों ने 69 करोड़ उड़ाए

Lucknow Raebareli

● पुलिस ने आरोपियों को गिरफ्तार कर किया खुलासा

● ठगी करने वाला मास्टरमाइंड अभी भी फरार

प्रमोद राही

मोहनलालगंज,लखनऊ। पुलिस कमिश्नरेट लखनऊ के अंतर्गत डीसीपी दक्षिणी जोन रईस अख्तर ने प्रेस वार्ता कर बताया कि थाना गोसाईगंज पुलिस ने हरिहरपुर निलमाथा थाना सुशांत गोल्फ सिटी निवासी महेश कुमार यादव पुत्र राम अवध यादव की दी गई तहरीर पर 5 प्रतिशत ब्याज प्रति महीने पर निवेशकों के 59 करोड़ रुपयों का गमन करने पर धारा 419/420/409/467/468/471/352/504 और 506 आईपीसी के तहत मुकदमा पंजीकृत किया गया। डीसीपी (दक्षिणी) ने बताया कि दुबई में अलास्का कमोडिटीज व अलास्का रियल स्टेट एण्ड डेवलपर्स कम्पनी बनाकर उसमें निवेशकों का करोड़ों रुपया जमा कराकर ठगी करने वाले गैंग को पुलिस ने पकड़ा। अलास्का रियल एस्टेट डेवलपर्स ने सैकड़ों लोगों से करोड़ों की ठगी की। डीसीपी (दक्षिणी) रईस अख्तर ने बताया कि एसीपी डॉ अर्चना सिंह के मार्गदर्शन और तेज तर्रार इंस्पेक्टर धीरेंद्र प्रताप कुशवाहा के नेतृत्व में पुलिस टीम ने कंपनी के डायरेक्टर समेत 9 लोगों सुभाष चन्द्र यादव, ललित कुमार वर्मा, सुरेंद्र कुमार यादव, नन्द किशोर, गजल सिंह, आशीष कुमार वर्मा, ओम सिंह, अवधेश कुमार मिश्रा और कौशलेंद्र यादव को गोसाईं गंज थाना क्षेत्र के रामबाग, मुन्शी गंज से गिरफ्तार किया है। ठगी के कारोबार का मास्टरमाइंड और अलास्का कंपनी का एमडी हरि ओम अभी फरार है। निवेशकों को झांसे में लेने के लिए निवेश की गई रकम का एडवांस में चेक और 5 फीसदी महीने में ब्याज का लालच देता था। प्रदेश के कई जनपदों में इस कंपनी ने अपना जाल फैला रखा है। सैंकड़ों लोगों से 59 करोड़ की रकम हड़प कर चुके हैं।

राजधानी लखनऊ के गोसाईगंज सहित प्रदेश भर के अलग-अलग जिलों में अलास्का कॉरपोरेशन नाम की एक चिट फंड कंपनी चलाई जा रही थी। जिसमें निवेशकों को 5% महीने ब्याज का लालच देकर सैकड़ों निवेशकों से लगभग ₹60 करोड़ इन्वेस्ट कराया गया था। अलास्का कंपनी के फ्रॉड में कई बड़े अधिकारियों ने भी अपना पैसा लगा दिया था। जब निवेशकों को समय से अपना पैसा वापस नहीं मिला तो उन्होंने गोसाईगंज थाने में अपनी शिकायत दर्ज कराई जिसके बाद पुलिस ने इस कंपनी से जुड़े डायरेक्टर समेत नौ लोगों को गिरफ्तार किया। निवेशकों ने बताया कि किस तरह से इस कंपनी द्वारा दुबई स्थित रियल स्टेट कारोबार के नाम पर बड़े-बड़े झांसे देकर उनसे पैसे लिए गए। बाद में पूरी कंपनी पैसा हड़प कर भाग गई।

निवेशकों की शिकायत के बाद गोसाईगंज थाने में पूरा मामला दर्ज किया गया। जिसके बाद बड़ी सरगर्मी से पुलिस ने आरोपियों की तलाश की जिसमें इस कंपनी से जुड़े डायरेक्टर समेत नौ लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार किया। अभी भी कंपनी का मास्टरमाइंड हरि ओम फरार है जिसकी पुलिस तलाश कर रही है। यह देखने वाली बात होगी कि लोगों को करोड़ों का चूना लगाने वाला मास्टरमाइंड हरिओम कब तक पुलिस की गिरफ्त में आता है। डीसीपी रईस अख्तर ने बताया कि उपरोक्त कंपनी के लोगों के विरुद्ध गैंगस्टर एक्ट के तहत कार्रवाई कर अलग से इनकी संपत्ति की जांच कराई जाएगी।

Total Page Visits: 188 - Today Page Visits: 10

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *