दूसरी पत्नी की संतान को भी नौकरी देगा रेलवे.

Featured National Uttar Pradesh

अभी तक पहली पत्नी के जीवित रहते या उससे बिना तलाक लिए दूसरी शादी करने को रेलवे मान्यता नहीं देता था। ऐसे हालात में दूसरी पत्नी की संतानों को लाभ नहीं मिल पाता था। रेलवे कर्मचारी की मौत पर उसकी दूसरी पत्नी के बेटे को अब अनुकंपा के आधार पर नौकरी दे दी जाएगी। रेल प्रशासन ने केंद्रीय प्रशासनिक ट्रिब्यूनल (कैट) के आदेश को लागू कर यह व्यवस्था शुरू कर दी है।

देश में ऐसे केस लगभग 10 हजार हैं, जिनमें रेलवे कर्मचारियों की मौत के बाद दूसरी पत्नी की संतानों को नौकरी नहीं मिली है। रेलवे नियम के अनुसार पहली पत्नी के जीवित रहते या बिना उससे तलाक लिए दूसरी शादी करने पर दूसरी पत्नी व उसकी संतान को कोई सुविधा उपलब्ध नहीं कराई जाती हैै।पहले कैट ने दूसरी पत्नी की संतान को पिता के स्थान पर नौकरी देने का आदेश दिया था। इस आदेश के खिलाफ रेलवे बोर्ड के अधिकारी ने सुप्रीम कोर्ट में अपील कर दी थी। सुप्रीम कोर्ट ने रेलवे के तर्क को खारिज कर दिया। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि पहली पत्नी के होते हुए दूसरी शादी से पैदा होने वाली संतान को पिता के अधिकार से वंचित नहीं रखा जा सकता है।इसलिए दूसरी पत्नी के संतान को नौकरी देनी चाहिए। कोर्ट ने कैट के फैसले को सही ठहराया।

ब्यूरो श्री समाचार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *