भ्रष्ट सचिव व प्रधान की वजह से खुले में शौच को जाने को मजबूर लोग ! ये है स्वच्छ भारत मिशन का सच

Uttar Pradesh बाराबंकी

मुन्ना सिंह

बाराबंकी : जिले के विकाश खंड त्रिवेदीगंज क्षेत्र में शौचालयों की ऐसी तस्वीर देखने को मिल रही है।जिसे शौचालय से ज्यादा खण्डहर कहना उचित होगा। शौचालयों की अनेक प्रकार की तस्वीर देखने को मिलती है,कहीं शौचालयों में कंडे तो कहीं लकड़ियां।कहीं-कहीं शौचालयों को नहाने के लिए प्रयोग किया जा रहा है जिसका ताजा मामला विकाश खंड त्रिवेदीगंज क्षेत्र के मोहम्मदपुर गांव में देखने को मिल रहा है। स्वच्छ भारत मिशन के तहत गांव में बनाए गए शौचालय सही से बने न होने के कारण गांव की महिलाएं, बेटियां व बुजुर्ग भी बाहर शौच करने के लिए मजबूर है।

ग्राम सभा मोहम्मद पुर गांव निवासी महिला लाभार्थी पुन्यवाशी पुत्र ज्वाला ने बताया कि हमारा शौचालय आया था लेकिन ग्राम प्रधान ने शौचालय का निर्माण करवाया पर आधा अधूरा ही करवाया प्रधान से कई बार कहने पर भी नहीं बनवाया जा रहा है जबकि शौचालय का पैसा निकाला जा चुका है।वहीं उक्त गांव निवाशी सुरेंद्र कुमार का कहना है कि सरकार तो सही से शौचालय बनवाने की रकम देती है लेकिन ग्राम प्रधान व सचिव की मिली भगत से शौचालय निर्माण में जमकर भ्रष्टाचार किया गया है जिसके कारण मानक विहीन तरीके से शौचालय का निर्माण करवाया गया है।,बाकी हम लोग प्रधान के पास कई बार दौड़ के जाते है तो कहीं नाम आता है,ऊपर से उसमें भी सरकार द्वारा दिए रुपयों में से अपना हिस्सा लेकर शौचालय निम्न स्तर का बनवाते है जब हम रुपये पता करने दफ्तर गए तो पता चला शौचालय के रुपये तो बहुत पहले पास हो गए लेकिन शौचालय अभी तक नहीं बने।

 प्रधान से लोग कहते है शौचालय बनवाने को और बने शौचालयों मे सीट,टैंक बनवाने के लिए कहते है।तो प्रधान कहते है।  बन जाएगा कहकर अपना पल्ला झाड़ लेते है।लोगों का तो यहां तक कहना है कि प्रधान शौचालयों की मात्र दीवारें बनवाकर छोड़ देते है न उसमें सीट रखी है न ही टैंक,बस देखवटी के लिए शौचालय की दीवार खड़ी है।और पैसा निकाल लिया गया इसी लिए हम लोग शौच के लिए बाहर जाने को मजबूर है।बच्चे,बूढ़े जवान सभी बाहर शौच जाने के लिए मजबूर है। वहीं जब पूरे मामले की जानकारी एडीओ पंचायत प्रमोद कुमार श्रीवास्तव से ली गई तो बताया कि अधूरे शौचालयों का निर्माण करवाने के लिए ग्राम प्रधान व सचिव को अवगत करा दिया गया है बहुत जल्द ही अधूरे शौचालयों को पूर्ण किया जाएगा।वहीं जब बात की गई की कुछ शौचालयों का निर्माण करवाए बिना ही पैसा निकाल लिया गया है तो बताया कि ऐसा कोई मामला संज्ञान में नहीं आया हुआ  है मामला संज्ञान में आते ही कार्यवाही की  जाएगी
Total Page Visits: 187 - Today Page Visits: 2

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *