जब माध्यमिक वित्तविहीन महासभा के शिक्षकों ने निकाला पैदल मार्च

Raebareli Uttar Pradesh

दीपचंद मिश्रा

बछरावां (रायबरेली)माध्यमिक वित्तविहीन शिक्षक महासभा के प्रदेश अध्यक्ष चौधरी रामवीर सिंह यादव के आवाहन पर अपनी तीन सूत्री मांगों को लेकर प्रदेश उपाध्यक्ष चौधरी उमाशंकर पटेल प्रदेश अध्यक्षा महिला प्रकोष्ठ रूबीना कुरेशी एवं प्रदेश उपाध्यक्ष मध्य उत्तर प्रदेश प्रभारी अहिबरन सिंह के नेतृत्व में वित्तविहीन शिक्षकों की समस्याओं को लेकर समाजवादी पार्टी एवं शिक्षक महासभा के अधिकृत प्रत्याशी चौधरी उमाशंकर पटेल के नेतृत्व में सैकड़ों शिक्षकों के साथ एक पद यात्रा निकालने की पूरी तैयारी थी। जो चुरुवा हनुमान मंदिर लखनऊ रोड से प्रारंभ भी हुई। जिसे प्रशासन ने तानाशाही दिखाकर रोका। तब वित्तविहीन शिक्षकों ने निवेदन किया कि हम गांधीजी के पद चिन्हों पर चलकर अहिंसात्मक तरीके से अपना प्रदर्शन करते हुए जाएंगे। परंतु प्रशासन ने आगे बढ़ने से रोका।

तभी शिक्षक महासभा एवं समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी चौधरी उमाशंकर पटेल ने प्रशासन को बताया कि पूर्व की समाजवादी पार्टी सरकार के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने हम वित्तविहीन शिक्षकों को 200 करोड़ रुपए दिए थे जो कि वर्तमान भाजपा सरकार ने बंद करके हम वित्तविहीन शिक्षकों का मानदेय बंद कर दिया। जिसके विरोध में आज पदयात्रा निकाली जा रही है। तभी एसडीएम विनय कुमार सिंह ने धारा 144 का हवाला देते हुए सभी शिक्षकों को प्रभारी निरीक्षक पंकज तिवारी से गिरफ्तार करने के लिए कहा तब प्रभारी निरीक्षक ने अपने दल बल के साथ सभी शिक्षकों को गिरफ्तार करके थाना बछरावां लाने की व्यवस्था की और मुचलके पर उनको छोड़ दिया गया। वहीं शिक्षक महासभा मध्य उत्तर प्रदेश के प्रभारी अहिबरन सिंह ने बताया कि यह भाजपा सरकार यह कहकर सत्ता में आई थी कि हम वित्तविहीन शिक्षकों को समान कार्य समान वेतन देगी परंतु यह सरकार सत्ता में आते ही पूर्व सरकार द्वारा मिलने वाला मानदेय भी बंद कर दिया। वही महासभा की प्रदेश अध्यक्षा रुबीना कुरेशी महिला प्रकोष्ठ ने बताया 3 सूत्री मांगों के लिए ही हम लोग पदयात्रा कर रहे हैं।

उत्तर प्रदेश की 85% शिक्षा व्यवस्था वित्तविहीन शिक्षकों द्वारा ही संपादित की जा रही है जब तक सरकार वित्तविहीन शिक्षकों एवं कर्मचारियों को सम्मानजनक ट्रेजरी के माध्यम से मानदेय नहीं देती है तब तक हमारा संघर्ष जारी रहेगा उन्होंने सरकार से मांग की कि हम लोगों को स्थाई मानदेय दिया जाए और शिक्षकों की सेवा सुरक्षा हेतु नियमावली बनाई जाए और पुरानी पेंशन भी बहाल की जाए। इन मांगों को रखते हुए जिलाध्यक्ष देवेश सिंह जिला महासचिव डॉ संतोष पटेल जिला उपाध्यक्ष बाराबंकी समीर पटेल अंकित सिंह जयश्री रेखा सिंह आदि सैकड़ों शिक्षकों को गिरफ्तार किया गया।

Total Page Visits: 135 - Today Page Visits: 1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *