सरकार की उपेक्षा का दंश झेल रहा महाराजा बिजली पासी किला

Lucknow Uttar Pradesh

प्रमोद राही

लखनऊ। कई सरकारें आई और बड़े-बड़े वादे किए परंतु किसी सरकार ने महाराजा पासी के किले की ओर ध्यान नहीं दिया। महाराजा बिजली पासी का किला कई दशकों से सरकार की उपेक्षा का दंश झेल रहा है। चाहे वह पूर्ववर्ती बसपा,सपा की सरकार रही हो या वर्तमान में भाजपा की सरकार की सभी ने केवल लोकलुभावन मीठे वादोंं का पुलिंदा ही थमाया। महाराजा बिजली पासी ट्रस्ट के अध्यक्ष पूर्व सांसद श्रीमती पूर्णिमा वर्मा के पति एवं पूर्व पी.सी.एस अधिकारी श्रीपाल वर्मा जी ने बताया की अब तो ट्रस्ट चलाना बहुत ही मुश्किल हो रहा है सरकार की तरफ से कोई भी सहायता ट्रस्ट को नहीं दी जा रही जुलाई 2019 को माननीय मुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश ने महाराजा बिजली पासी किला के सौंदर्यीकरण एवं पर्यटक स्थल के लिए 10 करोड़ रुपए देने की घोषणा की थी,परंतु अभी तक एक भी पैसा नहीं मिला है और ट्रस्ट की माली हालत भी उतनी ठीक नहीं है कि यहांं के कर्मचारियों का वेतन सुचारू रूप से रखरखाव एवं अन्य खर्चो का वहन कर सकें उन्होंने कहा कि मौजूदा सरकार महाराजा बिजली पासी के इतिहास को मिटाना चाहती है और उसके वजूद को खत्म करना चाहती है इसलिए सरकार कोई भी सहायता ट्रस्ट को नहीं देना चाहती इस संबंध में मोहनलालगंज सांसद कौशल किशोर से भी कई बार बात हुई लेकिन कोई भी संतोषजनक उत्तर सांसद महोदय से नहीं मिला ।

Total Page Visits: 75 - Today Page Visits: 1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *