फसल को चौपट होने से बचाने के लिए किसानों को मजबूर होकर चन्दे से करानी पड़ी पिण्डौली ड्रेन की सफाई

Raebareli Uttar Pradesh लापरवाही

● सिंचाई विभाग एवं जिम्मेदार अफसरों की लापरवाही किसानों पर पड़ी भारी

● किसानों की दर्जनों शिकायतों के बावजूद नही ली किसी ने सुध

अंगद राही / विपिन पाण्डेय

रायबरेली। भारत एक कृषि प्रधान देश है फिर भी यहां सबसे ज्यादा किसानों को उपेक्षा का शिकार होना पड़ता है। अन्नदाता कहे जाने वाले किसानों को कभी सिंचाई विभाग की अधिकारियों की उदासीनता का शिकार होना पड़ता है तो कभी जिम्मेदार अफसरों की लापरवाही किसानों के लिए मुसीबत का सबब बन जाती है। आलम यह है कि दर्जनों शिकायतों के बावजूद जनप्रतिनिधियों से लेकर जिम्मेदार अफसर तक मूकदर्शक बने रहते हैं। ऐसा ही एक मामला शिवगढ़ क्षेत्र का प्रकाश में आया है,जहां पीड़ित किसानों ने पिण्डौली ड्रेन की सफाई के लिए जनप्रतिनिधियों से लेकर उप जिलाधिकारी, जिलाधिकारी तक दर्जनों बार गुहार लगाई किंतु किसी ने ड्रेन की सफाई कराना मुनासिब नही समझा। पीड़ित किसानों का कहना है कि जब चारों तरफ से उनकी आस टूट गई तो मजबूर होकर उन्होंने आपस में चंदा जुटाकर नाले की सफाई करानी शुरू की। संजय सिंह ने जानकारी देते हुए बताया कि पिण्डौली ड्रेन मचौटी के पुल से निकलकर लोधन का पुरवा,

अर्जुनगंज, सेमरी तालाब, चंदापुर, गुड़िया गढ़ी होते हुए नर्बिला नाले में जाकर मिल जाती है। जिसकी सफाई ना होने से प्रतिवर्ष क्षेत्र की करीब 1000 हेक्टेयर फसल जलमग्न होकर चौपट हो जाती थी। नाले की सफाई कराने के लिए जहां ग्राम प्रधान व दीपू कैराती, अनिल सिंह, भगत अनिल सिंह, जगतपाल, धर्म सिंह, हरे राम, रामप्रसाद,भीषम, पप्पू सिंह, लल्लन सिंह, विजय बहादुर, दीपक सिंह, सुकेश आदि किसानों ने आर्थिक रूप से सहयोग किया है। वहीं कांग्रेसी नेता दिनेश यादव व पूर्व प्रधान प्रतिनिधि अंकित वर्मा ने नाले की सफाई कराने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है, जिन्होंने आश्वस्त भी किया है की इस मुद्दे को अधिकारियों के समक्ष उठाएंगे। दिनेश यादव, अंकित वर्मा ने कहा कि भाजपा सिर्फ किसान हितैषी होने का ढोंग करती है। कोरोना महामारी के चलते जहां पहले से किसानों की कमर टूटी हुई है वहीं किसानों को मजबूर होकर अपने पास से चंदा जुटाकर नालों एवं ड्रेनों की सफाई करानी पड़ती है। जबकि सरकार चाहे तो बरसात से पूर्व मनरेगा के माध्यम से नालो एवं ड्रेनों की सफाई कराकर हर साल किसानों को बर्बाद होने से बचा सकती है।

Total Page Visits: 286 - Today Page Visits: 1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *