रायबरेली की जनता ने सोनिया गांधी का दिया फिर से साथ नहीं चला भाजपा का कोई एजेंडा

Featured National Raeabreli Uttar Pradesh

रायबरेली की जनता ने सोनिया गांधी का दिया फिर से साथ नहीं चला भाजपा का कोई एजेंडा

भाजपा प्रत्याशी को नरेंद्र मोदी के चेहरे पर मिली वोटें लेकिन हुई हार

DHAIRYA SHUKLA

रायबरेली- मतगणना के दिन जहां जनता राजनेताओं के भविष्य का फैसला कर रही थी तो रायबरेली में भी उतार-चढ़ाव की स्थिति लगातार बरकरार थी लेकिन अंततोगत्वा कांग्रेस प्रत्याशी और देश की सबसे वीवीआईपी सीट से कांग्रेस प्रत्याशी सोनिया गांधी भारी मतों से जीत गई। रायबरेली की जनता ने सभी समीकरणों को ध्वस्त करते हुए एक बार फिर से कांग्रेस प्रत्याशी सोनिया गांधी पर ही भरोसा जताया भाजपा के दिग्गज स्टार प्रचारकों का जमावड़ा जनपद में जरूर लगा लेकिन कोई भी एजेंडा यहां पर नहीं चल सका हार की इस वजह से भाजपा कार्यकर्ताओं में उदासी भी है। भाजपा प्रत्यासी दिनेश प्रताप सिंह को नरेंन्द्र मोदी के चेहरे से कभी फायदा मिला भाजपा समर्थको ने उनका भरपूर साथ दिया लेकिन वह चुनाव न जीत सके। वहीं अगर बात कांग्रेस प्रत्याशी सोनिया गांधी की की जाए तो जिस जीत का आस लगाए जनपद बैठा था वैसी जीत धरातल पर नहीं उतर सकी। इसकी सीधी वजह थी कांग्रेस कमेटी इतनी मजबूती से सक्रिय नहीं हो पाई जिसकी अपेक्षा की गई थी ना ही नए चेहरों को जगह दी गई जिसकी वजह से युवा वोटरों को आकर्षित किया जा सके और यही वजह रही वोट प्रतिशत में गिरावट दर्ज की गई। लेकिन अंत में कांग्रेस प्रत्याशी सोनिया गांधी को 533687 मत मिले वही भाजपा प्रत्यासी को 365839 मत मिले। इस तरह सोनिया गांधी 167848 लाख मतों से जीत दर्ज की। जीत के साथ ही कांग्रेस मुख्यालय पर कार्यकर्ताओं में जश्न का माहौल था जगह-जगह जश्न मनाया जा रहा था दूसरी ओर देश में हुई हार का भी गम था लेकिन कार्यकर्ता यह कह रहे देश में हुई हार का उन्हें दुख भी है।

कमजोर संगठन से वोटों में भारी गिरावट पुराने कार्यकर्ता ही भर रहे हैं दम

जिस तरह से कांग्रेस पार्टी का जनाधार गिरा है वोटों में भारी गिरावट दर्ज की गई है उससे यह साफ जाहिर है कि किस कदर पार्टी में वर्षों से जमे और लाचार असहज हो चुके पार्टी कार्यकर्ता अपनी जड़े जनता के बीच में नहीं जमा पाए अपनी ही बातों को जनता से कह नहीं पाए युवाओं के संपर्क में वह टूट गए जिसकी वजह से युवा वोट दूसरी ओर चला गया। अगर कांग्रेस पार्टी की बात कर लिया जाए तो रायबरेली में जिस तरह से कांग्रेस प्रतिनिधि केएल शर्मा ने अपनी भूमिका निभाई वह भी सवालों से घिर गई रायबरेली की जनता की आवाज जब केएल शर्मा के पास पहुंचती थी तो उन्हें वहां से समझा-बुझा कर भेज दिया जाता था उसी का जवाब आज जनता ने दे दिया जब अप्रत्याशित रूप से कांग्रेस पार्टी का जनाधार तेजी से गिरा जिसके जिम्मेदार सिर्फ कांग्रेस प्रतिनिधि हैं जिनकी कार्यशैली से ही कांग्रेस पार्टी को भारी नुकसान हुआ है। अब इसकी जिम्मेदारी देखना है रायबरेली का कांग्रेस संगठन लेता है या फिर इसका भी ठीकरा कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के माथे फोड़ दिया जाता है।


युवा व बुजुर्ग तबके को आकर्षित करने में कामयाब हुई सदर विधायक अदिति सिंह

रायबरेली में भले ही भाजपा का कोई एजेंडा ना चल पाया हो लेकिन यह बात सच है बांटते हुए युवा वोटरों व बुजुर्गों को आकर्षित करने की कामयाबी सदर विधायक अदिति सिंह को भी दी जाए क्योंकि उन्होंने रायबरेली के हर एक कोने में भ्रमण कर ना सिर्फ कॉन्ग्रेस सरकार द्वारा किए गए कामों का उल्लेख किया गया बल्कि भविष्य की योजनाओं का भी जिक्र किया गया जिनके असरे सोनिया गांधी के मतों में इजाफा हुआ लेकिन जिस उम्मीद के साथ कांग्रेस संगठन दावे कर रहा था वह कामयाब ना हो सका। अपने कामों के जरिए वह सक्रिय राजनीति में सदर विधायक आदिति सिंह लगातार मेहनत कर रही थी रायबरेली की जनता में भी उन्होंने एक अलग प्रतिष्ठा बना ली थी जिसकी वजह से सोनिया गांधी के मतों में इजाफा हुआ। रायबरेली की सबसे वीआईपी सीट पर सोनिया गांधी जीत गई जिसके बाद पार्टी संगठन ने राहत की सांस ली और यहां से यह भी संदेश निकला कि रायबरेली में किसी भी तरह का कोई भी एजेंडा कभी कामयाब नहीं हो सकता क्योंकि रायबरेली की जनता कांग्रेस के द्वारा खासतौर पर सोनिया गांधी के द्वारा पिछले 10 सालों में किए गए कामों से संतुष्ट हैं जब उनकी सरकार भी नहीं है तब भी वह अन्य सांसदों के जरिए लगातार रायबरेली की जनता कि हर आवाज को सुन रही की और आवाज को पहुंचाने का काम कर रही थी सदर विधायक अदिति सिंह जिनकी वजह से ही कांग्रेस प्रत्याशी सोनिया गांधी के मतों में भारी इजाफा हुआ।

बिहार से आए कांग्रेसी समर्थक ने सोनिया गांधी के जीत के सुबह लिए पढ़ी नमाज

चिलचिलाती धूप में शहीद स्मारक के पास पढ़ रहे थे नमाज सुरक्षा के मद्देनजर पुलिस ने हटाया

रायबरेली- मतगणना के दौरान बिहार राज्य से आए कांग्रेसी समर्थक ने सुबह से डिग्री कॉलेज स्थित शहीद स्थल पर कांग्रेस प्रत्याशी सोनिया गांधी के जीत को लेकर मुस्लिम धर्मग्रंथ के साथ दुआ कर रहे थे। कांग्रेसी समर्थक आफताब आलम निवासी रजौली जिला नवादा राज्य बिहार सुबह 6ः00 बजे से शहीद स्थल पहुंचकर सोनिया गांधी के जीत के लिए दुआएं करने लगे इस दौरान मौजूद भारी सुरक्षा बल ने उन्हें सुरक्षा के दृष्टिकोण मस्जिद के पास नमाज पढ़ने के लिए भेजा दरअसल पुलिस व्यवस्था चाक-चौबंद होने की वजह से पुलिस किसी भी तरह की दिक्कत में नहीं फंसना चाहती थी इसलिए उन्हें सुरक्षित मस्जिद के पास जाकर दुआ करने की अपील की गई जिसके बाद उन्होंने प्रशासन की बात मानकर वहां चले गए इस दौरान पुलिस बल ने उनके पोस्टर को उतार उनके हाथों में सुपुर्द कर दिया। बात करने पर उन्होंने बताया वह पेशे से एक विद्यालय में लैब टेक्नीशियन है उसी के साथ वह कांग्रेसी समर्थक भी हैं उन्होंने कहा वर्षों पुराना उनका कांग्रेस से नाता रहा है इसलिए आज वह रायबरेली की सबसे वीआईपी सीट पर सोनिया गांधी के जीत के लिए दुआएं करने बिहार राज्य से उत्तर प्रदेश के रायबरेली पहुंचे। उन्होंने कहा कॉन्ग्रेस पार्टी के नेताओं ने अपना सर्वस्य न्योछावर इस देश के लिए किया है उन्होंने अपना बलिदान दिया है जिसकी वजह से वह कांग्रेसी समर्थक हैं और वह मरते समय तक कांग्रेसी समर्थक रहेंगे गांधी परिवार ने देश के लिए जो शहादत दी है उसको वह कभी नहीं भुला सकते। उन्होंने कहा हमारे राज्य में एक कहावत है संजय मरे आकाश में राजीव मरे मद्रास में इंदिरा मरी आवास में लेकिन यदि राहुल जी किसी बात को नहीं सुनेंगे तो हम लोग मरेंगे उनके पैर में। उनके इन शब्दों से अंदाजा लगाया जा सकता है वह किस कदर कांग्रेसी समर्थक हैं उन्होंने कहा हार जीत जीवन में लगा रहता है संघर्ष सिर्फ सत्ता में रहकर नहीं किया जाता मजबूत विपक्ष ने इस देश का भविष्य बनता है इसलिए कांग्रेस को अब विपक्ष का फर्ज निभाना होगा जिसे वह बड़ी ईमानदारी से निभाएं उन्होंने कहा राहुल गांधी भले ही अमेठी से चुनाव हार गए हैं लेकिन वायनाड से अप्रत्याशित रूप से उन्हें जीत मिली है वहां की जनता ने उन्हें अपने गले लगाया है इससे यह संकेत जाता है कि राहुल गांधी सबसे पढ़े-लिखे नेताओं में शुमार हैं। उन्होंने कहा हार जीत जीवन में सीख देती है भाजपा भी लंबे अरसे तक विपक्ष में रही और वह संघर्ष करती रही इसलिए हताश होने की जरूरत नहीं है सिर्फ देश का कल्याण हो इस देश का ख्याल रखना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *