न कोरोना का डर न शासन का भय , स्कूल संचालक ने उड़ाई शासनादेश की धज्जियां

Raebareli Uttar Pradesh कोरोना वायरस

निजी विद्यालय संचालक की मनमानी के आगे जिला प्रशासन के आदेश भी साबित हो रहे बौने

श्रवण कुमार

सरेनी (रायबरेली)जहां वैश्विक महामारी कोरोना को लेकर घोषित लाॅकडाउन के दौरान सभी विद्यालय उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा बंद कर दिए गए हैं और जिला प्रशासन भी इसको लेकर सजग दिख रहा है। वहीं सरेनी क्षेत्र के अन्तर्गत एक निजी विद्यालय संचालक द्वारा यूपी सरकार के साथ साथ जिला प्रशासन के आदेश की अवहेलना करते हुए सोमवार को विद्यालय खोला गया । जहां सैकड़ों की संख्या में छात्र व छात्राएं उपस्थित रहे और इस दौरान सामाजिक दूरी यानी सोशल डिस्टेंसिंग भी दम तोडती दिखाई दी। मामला सरेनी थाना क्षेत्र के अन्तर्गत लखनापुर का है जहां सरस्वती बाल मंदिर के निजी विद्यालय संचालक की मनमानी के आगे जिला प्रशासन का आदेश भी बौना साबित हुआ और लाॅकडाउन के दौरान भी विद्यालय खोलकर नौनिहालों को विद्यालय में बुलाकर उनके जीवन को खतरे में डालते हुए सोशल डिस्टेंसिंग की जमकर धज्जियां उड़ाई गई। सभी छात्र व छात्राएं पूर्व की सामान्य स्थिति की तरह ही एक दूसरे से सटे खड़े दिखाई दिए। अब सोचने वाली बात यह है कि जब वैश्विक महामारी के चलते लाॅकडाउन घोषित है और पूरा भारत लगभग कच्छप गति से गुजर रहा है । सभी बडे़ से बडे विद्यालय, महाविद्यालय व सरकारी संस्थान लाॅकडाउन का अक्षरशः पालन करते हुए सरकार व जिला प्रशासन के आदेशों का पालन कर रहे हैं तो वहीं निजी विद्यालय संचालक की मनमानी को आप क्या कहेंगे, यह सोचने वाली बात है। यह पहली बार नहीं हुआ है कि इस विद्यालय के संचालक द्वारा जिलाधिकारी के आदेश की अवहेलना की गई है बल्कि इसके पूर्व में भी इस निजी विद्यालय संचालक द्वारा जिलाधिकारी के आदेश की अवहेलना शीतकालीन अवकाश घोषित होने के बाद भी विद्यालय खोलकर की जा चुकी है । जिसको लेकर कई समाचार पत्रों में उस खबर को प्रकाशित की गई थी। अब देखने वाली बात यह है कि जिलाधिकारी द्वारा उक्त मामले को संज्ञान में लेते हुए कब और किस प्रकार की कार्यवाही की जाती है।

Total Page Visits: 132 - Today Page Visits: 1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *