पांचवां चरण: यूपी में कांग्रेस के दिग्गजों का दंगल, कई सीटों पर त्रिकोणीय संघर्ष

Raeabreli Uttar Pradesh

कांग्रेस के दिग्गज नेताओं में पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी, उनकी मां और पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, जितिन प्रसाद, निर्मल खत्री और तनुज पूनिया की सीटों पर 6 मई को पांचवें चरण में मतदान है। 2014 के चुनाव में कांग्रेस के गढ़ अमेठी और रायबरेली को छोड़कर बीजेपी ने 14 में से 12 सीटें जीती थीं।


लोकसभा चुनाव के पांचवें चरण में उत्तर प्रदेश की 14 सीटों पर 6 मई को मतदान है। इनमें से 2014 के चुनाव में कांग्रेस के गढ़ अमेठी और रायबरेली को छोड़कर बीजेपी ने 12 सीटें जीती थीं। इस चरण में कांग्रेस को न केवल दो सीटों को बरकरार रखने की उम्मीद है बल्कि वह कम से कम चार दूसरी सीटों- धौरहरा, बाराबंकी, फैजाबाद और सीतापुर में बीजेपी को टक्कर देती नजर आ रही है। 2009 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस ने इन 14 में से 7 सीटों पर कब्जा जमाया था और पार्टी अपना पुराना प्रदर्शन दोहराने के लिए पूरी ताकत झोंक रही है।


कांग्रेस की राह में सबसे बड़ी बाधा एसपी-बीएसपी-आरएलडी का गठबंधन है, जिसके पास ज्यादातर सीटों पर बड़ी तादाद में पारंपरिक और समर्पित वोटर हैं। 2014 के लोकसभा चुनाव में इन 14 में से 10 सीटों पर एसपी या बीएसपी के कैंडिडेट दूसरे नंबर पर रहे थे। कई सीटों पर एसपी-बीएसपी का सम्मिलित वोट शेयर बीजेपी उम्मीदवारों से ज्यादा था। ऐसे में कांग्रेस ने कई सीटों पर मुकाबले को त्रिकोणीय बना दिया है।


कांग्रेस के दिग्गज नेताओं में पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी, उनकी मां और पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, जितिन प्रसाद, निर्मल खत्री और तनुज पूनिया की सीटों पर 6 मई को पांचवें चरण में मतदान है। सीतापुर में कांग्रेस ने कैसर जहां को उम्मीदवार बनाया है, जो 2014 के चुनाव में बतौर बीएसपी कैंडिडेट दूसरे नंबर पर रही थीं। बीएसपी ने इस बार नकुल दुबे को सीतापुर से उम्मीदवार बनाया है। फतेहपुर में कांग्रेस ने राकेश सचान को टिकट दिया है जो 2014 के चुनाव में एसपी के प्रत्याशी थे। इस बार गठबंधन के तहत यह सीट बीएसपी के खाते में है और पार्टी ने सुखदेव प्रसाद पर दांव खेला था

कांग्रेस महासचिव और पूर्वी उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गांधी ने पांचवें चरण पर खास तौर से जोर लगाया है और उन्होंने उन सभी सीटों पर प्रचार किया जहां पार्टी को 2014 के मुकाबले बेहतर प्रदर्शन की उम्मीद है। लखनऊ में वरिष्ठ बीजेपी नेता और केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह एक बार फिर चुनाव लड़ रहे हैं। उनके खिलाफ एसपी से पूनम सिन्हा और कांग्रेस से प्रमोद कृष्णम उम्मीदवार हैं। बाकी 13 सीटों पर बीजेपी के सामने विपक्षी गठबंधन के साथ ही कांग्रेस को रोकते हुए 2014 की कामयाबी दोहराने की चुनौती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *