लखनऊ संसदीय हाई प्रोफाइल सीटों में से एक है। यहां से गृहमंत्री राजनाथ सिंह अपनी किस्मत आजमां रहे हैं

National Uttar Pradesh

क्या लखनऊ में होगा त्रिकोणीय मुकाबला
उत्तर प्रदेश की लखनऊ संसदीय हाई प्रोफाइल सीटों में से एक है। यहां से गृहमंत्री राजनाथ सिंह अपनी किस्मत आजमां रहे हैं और उनके खिलाफ सपा-बसपा गठबंधन से शत्रुघ्न सिन्हा की पत्नी पूनम सिन्हा और कांग्रेस की तरफ से प्रमोद कृष्णम चुनावी मैदान में है। पूनम सिन्हा ने गुरुवार को लखनऊ में रोड शो में दम दिखाने के बाद नामांकन किया और उनके साथ डिंपल यादव के साथ साथ उनके पति शत्रुघ्न सिन्हा भी शामिल हुए थे। लखनऊ में एक पति अपनी पत्नी की हौसला आफजाई के लिए था। लेकिन एक पार्टी के तौर पर शत्रुघ्न सिन्हा अपने विरोधी खेमे के खिलाफ खड़े नजर आए। शत्रुघ्न सिन्हा के बारे में कांग्रेस प्रत्याशी प्रमोद कृष्णम ने दिलचस्प बयान दिया जिसमें तल्खी साफ तौर पर नजर आ रही थी।


कांग्रेस प्रत्याशी प्रमोद कृष्णम ने कहा कि शत्रुघ्न सिन्हा जी यहां आकर अपना पत्नी धर्म निभाये। लेकिन वो शत्रु जी से कहना चाहते हैं कि पत्नी धर्म उन्होंने निभा दिया है। लेकिन एक दिन उनके लिए प्रचार करके वो पार्टी धर्म भी निभाएं। लखनऊ के चुनाव की सबसे बड़ी खासियत ये है कि कोई प्रत्याशी इस शहर का नहीं है। अब सवाल ये है कि सपा और बसपा गठबंधन ने पूनम सिन्हा पर भरोसा क्यों जताया। जानकारों का कहना है कि अगर आप लखनऊ के जातिगत आंकड़ों को देखें तो यहां पर कायस्थ मतदाताओं की संख्या तीन लाख से ज्यादा है और सिंधी मतदाता भी करीब डेढ़ लाख है। सपा बसपा गठबंधन के रणनीतिकारों को लगता है कि पूनम सिन्हा मूल रूप से सिंधी हैं और पति की तरफ से कायस्थ हैं।ऐसे में उन्हें दोनों वर्गों का भरपूर समर्थन मिलेगा। कायस्थ, सिंधी के साथ साथ सपा बसपा के कोर मतदाताओं के समर्थन से पूनम सिन्हा की राह आसान हो सकता हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *