लोकसभा चुनाव 2019: प्रचार के गति पकड़ते ही वोटों के सौदागर सक्रिय*

Raeabreli Uttar Pradesh

*हैसियत नही घर का वोट दिलाने की, ठेका हजारो वोट दिलाने का*

रायबरेली। लोकसभा चुनाव में प्रचार की गति तेज होते ही वोटों के सौदागर भी सक्रिय हो गए है। वे प्रत्याशियों के कार्यालय व दफ्तरों के चक्कर लगाकर खुद के कब्जे में वोट होने का दावा करते हुए सौदेबाजी के खेल में जुट गए है। चुनावों में वोटों की ठेकेदारी लेना नई बात नहीं है। लोकसभा चुनाव में ठेकेदार बन छुटभैये नेता प्रत्याशियों को वोट दिलाने के नाम पर सौदेबाजी करने में जुट गए हैं जबकि हैसियत नही है घर के वोट दिलाने की । चुनाव प्रचार के गरमाते ही यह खेल शुरू हो गया है। ऐसे ही कई कथित नेता इन दिनों प्रत्याशियों के दफ्तरों के चक्कर लगाते देखे जा रहे है। इनमें सभी का दावा है कि उनके पास जो वोट है, वे चुनाव में निर्णायक साबित हो सकते है। चुनाव के माहौल में किसी भी तरह से पद पाने की लालसा रखने वाले प्रत्याशी मजबूरी में ही सही, उनकी बातों पर विश्वास कर लेते है। इससे वोटों की सौदेबाजी का खेल शुरू हो जाता है। लेन-देन की बात न बनने पर ये ‘नेता’ दूसरे प्रत्याशियों के दफ्तरों का रुख करते है। चुनाव को त्योहार मानने वाले ये ‘नेता’ किसी कीमत पर हाथ आए मौके को गंवाना नहीं चाहते। एक प्रत्याशी समर्थक ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि चुनाव में ऐसे नेताओं की सक्रियता बढ़ जाती है। उन पर विश्वास भी करना पड़ता है। बहरहाल, इन दिनों वोट के इन ठेकेदारों की पौ-बारह हो रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *