अवध फाउंडेशन ने उठाया मजदूर की बेटी के इलाज का जिम्मा

Raebareli Uttar Pradesh मिसाल

प्रमोद राही

निगोहां,लखनऊ। लॉकडाउन के संकट में दो वक्त की रोटी के लिये जद्दोजहद करने वाले मजदूर पर उस समय संकट का पहाड़ टूट पड़ा जब उसके पांच साल की बेटी के आंख में जानवर का सींग लगने से आंख फुट गई । नज़दीकी निजी अस्पताल द्वारा इलाज का भारी भरकम खर्च बताने पर मजदूर के ऊपर मानो पहाड़ टूट पड़ा । इस दौरान समाजसेवियों की मदद से मज़दूर अवध फाउंडेशन के अतुल शर्मा के संपर्क में आया तो उसकी तुरंत चिकित्सा शुरू करने के लिये अवध इंटरनेशनल फ़ाउंडेशन के अतुल शर्मा उसे लेकर मेडिकल कालेज के नेत्र चिकित्सक प्रोफ़ेसर डॉ अरुण कुमार शर्मा द्वारा पुरी जाँच के बाद बच्ची के ऑंख का आपरेशन अविलंब सोमवार को करने की सलाह दी । अवध फाउंडेशन ने बच्ची के पूरे इलाज और आपरेशन की जिम्मेदारी भी ली।मदद मिलने पर मजदूर ने कहा हमे तो धरती पर मानो भगवान मिल गए।
निगोहां के मदारीखेड़ा गांव के रहने वाले मजूदर रियाज मजदूरी कर अपना परिवार चलाते है।लॉकडाउन के दौरान मजदूरी रुकी तो खाने का संकट खड़ा हो गया था।किसी तरह इधर-उधर मांग कर दो जून की रोटी से अपना और अपने परिवार का पालन कर रहा था।
पांच दिन पहले उसके पांच साल की बेटी चांदनी की आंख में बकरी का सींग लगने से चाँदनी की आंख फट गयी । इस पर रियाज़ बच्ची को लेकर तुरंत निगोहां के नज़दीक निजी अस्पतालों में गया, जहा पर तत्काल ऑपरेशन की बात कहकर रियाज़ को भारी भरकम खर्च बता दिया।इस पर मजदूर बेटी को लेकर घर पर ही बैठ गया।इस की खबर समाजसेवी अखिलेश द्विवेदी, मुकेश मिश्रा द्वारा अवध इंटरनेशनल फाउंडेशन के अतुल शर्मा को लगी तो उन्होंने तुरंत बच्ची का इलाज कराने में मदद करने की बात कही । मेडिकल कालेज में जाँच के बाद बच्ची की पूरी दांस्ता सुनकर मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डॉ एस एन शंखवार ने इलाज में पुरी मदद करने का आश्वासन दिया और तुरंत बच्चे के खून की जांच कराई और दवा की व्यवस्था कर दी । इसके बाद रविवार कोरोना जांच के लिये बुलाया।और कहा सोमवार इसका ऑपरेशन होगा जिसके बाद धीरे धीरे इसके आंख की रोशनी वापस आएगी यह सुनकर मजदूर की आंखों में आंशू आ गए।

Total Page Visits: 113 - Today Page Visits: 1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *